0
दे सकेगा क्या किसी को वो ख़ुशी - बलजीत सिंह बेनाम
दे सकेगा क्या किसी को वो ख़ुशी - बलजीत सिंह बेनाम

दे सकेगा क्या किसी को वो ख़ुशी खौफ़ में जिसने बिताई ज़िन्दगी सिर्फ़ कहने का तरीका है नया बात कोई भी नहीं है अनकही उम्र भर की शोहरतों का ये...

Read more »

0
ध्यान रखेंगे  -डॉ. जियाउर रहमान जाफ़री
ध्यान रखेंगे -डॉ. जियाउर रहमान जाफ़री

क्यों सबको कन्फ्यूज़ करेंगे नहीं प्लास्टिक यूज़ करेंगे पॉलीथिन में जो आता है कब धरती में गल पाता है उपजाऊ जो ज़मीं न होगी खा कर क्या फि...

Read more »

0
दादी भी स्मार्ट हुईं - डॉ. जिया उर रहमान जाफरी
दादी भी स्मार्ट हुईं - डॉ. जिया उर रहमान जाफरी

बदल गया है आज ज़माना बदल गईं हैं दादी भी पहले वाली नहीं है बंदिश मिली उन्हें आजादी भी कंप्यूटर को खोल के ख़ुद से गूगल तक वो जाती हैं ...

Read more »

0
आप को देख कर देखता रह गया - वसीम बरेलवी
आप को देख कर देखता रह गया - वसीम बरेलवी

यहाँ ग़ज़ल अज़ीज़ क़ैसी साहब की आपको देखकर देखता रह गया  ग़ज़ल की ज़मीन पर ही लिखी गई है आप को देख कर देखता रह गया क्या कहुँ और कहने को क...

Read more »

0
हर इक मकाँ में जला फिर दिया दिवाली का - नज़ीर अकबराबादी
हर इक मकाँ में जला फिर दिया दिवाली का - नज़ीर अकबराबादी

हर इक मकाँ में जला फिर दिया दिवाली का हर इक तरफ़ को उजाला हुआ दिवाली का सभी के दिल में समाँ भा गया दिवाली का किसी के दिल को मज़ा ख़ु...

Read more »

0
दिवाली के दीप जले हैं  - हैदर बयाबानी
दिवाली के दीप जले हैं - हैदर बयाबानी

सभी पाठको को दीपो के पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए  दिवाली के दीप जले हैं यार से मिलने यार चले हैं चारों जानिब धूम-धड़ाक...

Read more »
 
 
Top