0
तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे - राजेंद्र नाथ रहबर
तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे - राजेंद्र नाथ रहबर

तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे प्यार में डूबे हुए खत मैं जलाता कैसे तेरे हाथों के लिखे खत मैं जलाता कैसे जिनको दुनिया की निगाहों से छ...

Read more »

0
कभी आँसू कभी ख़ुशी बेची - अबु तालिब
कभी आँसू कभी ख़ुशी बेची - अबु तालिब

कभी आँसू कभी ख़ुशी बेची हम ग़रीबों ने बेकसी बेची चन्द साँसे ख़रीदने के लिये रोज़ थोड़ी सी ज़िन्दगी बेची जब रुलाने लगे मुझे साये मैंने उकता ...

Read more »

0
वोट देने से पहले तुम इस बार - शहीद अंजुम
वोट देने से पहले तुम इस बार - शहीद अंजुम

वोट देने से पहले तुम इस बार, अपने माँ बाप की दुआ लेना, अपने बच्चों से गुफ्तगू करना, अपनी बीवी के दिल की भी सुनना, कुछ बदलने की जुस्...

Read more »

0
माँ पर लिखे कुछ शेर
माँ पर लिखे कुछ शेर

जीवन की शुरुवात में जो हमसे जुडी रहती है वो है माँ | माँ पर लिखने जाये तो कई किताबे भर जायेगी फिर भी लिखने को काफी कुछ बाकी रह जायेगा |  आप...

Read more »

0
माँ पर लिखे मुनव्वर राना के कुछ शेर
माँ पर लिखे मुनव्वर राना के कुछ शेर

माँ पर लिखे मुनव्वर राना के कुछ शेर चलती फिरती हुई आँखों से अज़ाँ देखी है मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है *-*-*-* हाल...

Read more »

3
मजदूर पर कहे गए शेर
मजदूर पर कहे गए शेर

मजदूर दिवस पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाए | मजदूर और मजदूरी पर शायरों ने काफी कुछ कहा है हमने उनमे से कुछ एकत्रित किये है हो सकता है इनमे से...

Read more »
 
 
Top