1
वालिद पर फातिहा - निदा फाजली
वालिद पर फातिहा - निदा फाजली

आज आप सभी के निदा फाजली की लिखी रचना वालिद पर फातिहा पेश है  तुम्हारी कब्र पर मैं फातिहा पढ़ने नहीं आया मुझे मालूम था तुम मर नहीं सकत...

Read more »

1
लफ़्ज़ तोड़े मरोड़े ग़ज़ल हो गई - अल्हड़ बीकानेरी
लफ़्ज़ तोड़े मरोड़े ग़ज़ल हो गई - अल्हड़ बीकानेरी

अल्हड बीकानेरी अपनी अलग तरह की शायरी के लिए जाने जाते है आपका मूल नाम श्यामलाल शर्मा है आपको हरियाणा गौरव पुरस्कार, काका हाथरसी पुरस्कार भी...

Read more »

0
राहत इंदौरी की नई किताब मेरे बाद
राहत इंदौरी की नई किताब मेरे बाद

आंख में पानी रखो होंठों पे चिंगारी रखो, जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो ' जिंदगी की हकीकत और रूमानियत को लफ्जों में पिरोकर ...

Read more »

8
वे आ रहे है ... - ध्रुव सिंह एकलव्य
वे आ रहे है ... - ध्रुव सिंह एकलव्य

"वे आ रहें हैं" सत्य को प्रतिष्ठित बनाने मार्ग पर तुमको चलाने चक्षुओं से,चुनके काँटें हृदय से अपने लगाने वे आ रहें हैं.....

Read more »

0
कह दो मंदिर में चले आएँ पुजारी सारे  - कृष्ण बिहारी नूर
कह दो मंदिर में चले आएँ पुजारी सारे - कृष्ण बिहारी नूर

आज श्री कृष्ण बिहारी 'नूर' साहब की 14 वीं पुण्य तिथि है, उनकी स्मृतियाँ और आशीर्वाद हम सभी के साथ हैं,उनके साथ गुज़रे हुए पल अक्सर स...

Read more »

4
तुम नद्दी पर जा कर देखो चाँद - अफ़सर मेरठी
तुम नद्दी पर जा कर देखो चाँद - अफ़सर मेरठी

तुम नद्दी पर जा कर देखो जब नद्दी में नहाए चाँद कैसी लगाई डुबकी उस ने डर है डूब न जाए चाँद किरनों की इक सीढ़ी ले कर छम छम उतरा जाए ...

Read more »
 
 
Top