वो ख़ुश्बू बदन थी
मगर ख़ुद में सिमटी सी इक उम्र तक यूँ ही बैठी रही
बस इक लम्स की मुन्तज़िर
उसे एक शब ज्यों ही मैंने छुआ, उससे तितली उड़ी,
फिर इक और इक और तितली उडी, देर तक तितलियाँ यूँ ही उडती रहीं
छंटी तितलियाँ जब कहीं भी न थी वो
तभी से तअक़्क़ुब में हूँ तितलियों के
इकठ्ठा किये जा रहा हूँ इन्हें मैं
के इक रोज़ इनसे दुबारा मैं तख़्लीक़ उसको करूँगा
जो ख़ुश्बू बदन थी
वो ख़ुश्बू बदन थी….- स्वप्निल तिवारी आतिश

Roman

Wo khushbu badan thi
Magar khud me simti si ek umr tak u hi baithi rahi
Bas ek lams ki muntjir
Use ek shab jyo hi maine chhua, use titli udi
Fir ek aur ek aur titli udi, der tak titliya u hi udti rahi
Chati titliya jab kahi bhi n thi wo
Tabhi se taakkub me hu titliyo ke
Ikththa kiye jar aha hu inhe mai
Ke ek roz inse dubara mai takhlik usko karunga
Jo khushbu badan thi
Wo khushbu badan thi …– Swapnil Tiwari Atish

Urdu
وو خوشبو بدن تھی
مگر خود میں سمٹی سی اک امر تک یوں ہی بیٹھی رہی
بس اک لمس کی منتظر
اسے ایک شب جیوں ہی میں نے چھوا اس سے تتلی اڑی 
پھر اک اور اک اور تتلی اڑی، دیر تک تتلیاں یوں ہی اڑت
ی رہیں
چھنٹی تتلیاں جب کہیں بھی نہ تھی وو
تبھی سے تعقب میں ہوں تتلیوں کے
کیے جا رہا ہوں انہیں میں اکٹھا 
کہ اک روز انسے دوبارہ میں تخلیق اس کو کرونگا
جو خوشبو بدن تھا
وو خوشبو بدن تھا -स्वप्निल तिवारी आतिश
#jakhira
हर एक धडकन अजब आहट
परिंदों जैसी घबराहट

मिरे लहजे में शीरीनी
मिरी आँखों में कड़वाहट

मिरी पहचान है शायद
मिरे हिस्से कि उकताहट

सिमटता शेर है हैयत में
बदन कि सी यह गदराहट

मुसिर मै, फन मिरा जिद पर
यह बालकहट यह तिरयाहट

उजाले डस न ले इस को
बचा रक्खो यह धुंधलाहट

लहू की सीढियों पर है
कोई बढती हुई आहट - अब्दुल अहद साज़

मायने
शीरीनी=मिठास, हैयत=फॉर्म, मुसिर=जिद पर

Roman

har ek dhadkan ajab aahat
parindo jaisi ghabrahat

mire lahje me shirini
miri aankho me kadwahat

miri pahchan hai shayad
mire hisse ki uktahat

simtta sher hai haiyat me
badan ki si yah gadrahat

musir mai, fan mira jid par
yah balakhat yah tiryahat

ujale das n le is ko
bacha rakkho yah dhundhlahat

lahu ki sidhiyo par hai
koi badhti hui aahat- Abdul Ahad Saaz
#jakhira
Parvez Muzaffar
एक-एक मस्जिद, सारे मंदिर, हर गुरुद्वारा डूब गया
बिजली घर का बाँध बना तो गाँव हमारा डूब गया

बस्ती वालों से कहता था घबराना मत, में जो हूँ
नाव बनाने वाला मांझी, वो बेचारा डूब गया

जाने कैसे इतना पानी छलका चाँद कटोरे से
जिस में हर एक जगमग जगमग टीम-टीम तारा डूब गया

एक प्रेमी जोड़ा डूबा था जिस दरिया में कल रात
आज समंदर में जा कर वो दरिया सारा डूब गया

अपनी क़िस्मत को कोसें या कश्ती को रोए परवेज़
हम साहिल पर पहुंचे ही थे और किनारा डूब गया- परवेज़ मुजफ्फर

Roman

Ek-ek Masjid, sare mandir, har gurudwara dub gaya
bijli ghar ka baandh bana to gaanv/gaon hamara doob gaya

basti walo se kahta tha ghabrana mat, mai jo hu
naav banane wala manjhi, wo bechara doob gaya

jane kaise itna paani chalaka chand katore se
jis me har ek jagmag-jagmag tim-tim tara doob gaya

ek premi joda duba tha jis dariya me kal raat
aaj samndar me ja kar wo dariya sara doob gaya

apni kismat ko kose ya kashti ko roye parvez
ham sahil par pahuche hi the aur kinara doob gaya - Parvez Muzaffar

परवेज़ मुजफ्फर आप शायर मुजफ्फर हनफ़ी साहब के सुपुत्र है और खुद भी एक शायर है आपकी "थोड़ी सी रौशनी - शायरी" नाम से किताब प्रकाशित हो चुकी है | जन्म मुजफ्फर नगर में हुआ फिर बचपन भोपाल में और फ़िलहाल बर्किघम में है | आपका बाकी परिचय किसी और लेख में |

#jakhira
उनके आँगन
बरसा सावन

गिनना छोडो
दिल की धडकन

उसके आंसू
मेरा दामन

गम है लाज़िम
कैसी उलझन

उनके चर्चे
गुलशन गुलशन

बस्ती में है
घर-घर रावन

कितना अच्छा
था वह बचपन - अतीक इलाहाबादी

Roman

unke aangan
barsa sawan

ginna chhodo
dil ki dhadkan

uske aansu
mera daman

gam hai lazim
kaisi uljhan

unke charche
gulshan gulshan

basti me hai
ghar-ghar rawan

kitna achcha
tha wah bachpan- Ateeq Allahabadi
#jakhira
एक क़तरा मलाल भी बोया नहीं गया
वोह खौफ था के लोगों से रोया नहीं गया

यह सच है के तेरी भी नींदें उजड़ गयीं
तुझ से बिछड़ के हम से भी सोया नहीं गया

उस रात तू भी पहले सा अपना नहीं लगा
उस रात खुल के मुझसे भी रोया नहीं गया

दामन है ख़ुश्क आँख भी चुप चाप है बहुत
लड़ियों में आंसुओं को पिरोया नहीं गया

अलफ़ाज़ तल्ख़ बात का अंदाज़ सर्द है
पिछला मलाल आज भी गोया नहीं गया

अब भी कहीं कहीं पे है कालख लगी हुई
रंजिश का दाग़ ठीक से धोया नहीं गया - फरहत अब्बास शाह ( فرحت عباس شاہ)

Roman

Ek katra malal bhi boya nahi gaya
woh khouf ke logo se roya nahi gaya

yah sach hai ke teri bhi ninde ujad gayi
tujh se bichchad ke ham se bhi soya nahi gaya

us raat tu bhi pahle sa apna nahi laga
us raat khul ke mujhse bhi roya nahi gaya

daman hai khushk aankh bhi chupchap hai bahut
ladiyo me aansuo ko piroya nahi gaya

alfaz talkh, baat ka andaj sard hai
pichla malal aaj bhi goya nahi gaya

ab bhi kahi kahi pe kalakh lgi hui
ranjish ka daag thik se dhoya nahi gaya - Farhat Abbas Shah
#jakhira
जगती रात अकेली सी लगे
जिंदगी एक पहेली सी लगे

रूप का रंग महल, ये दुनिया
एक दिन सुनी हवेली सी लगे

हमकलामी तिरी खुश आये इसे
शायरी तेरी सहेली सी लगे

रातरानी-सी वो महके खामोश
मुस्कुरा दे तो चमेली सी लगे

फन की महकी हुई मेहँदी से रची
से बयाज़ उसकी हथेली-सी लगे - अब्दुल अहद साज़ 
मायने
हमकलामी=एक दूसरे से बातचीत, बयाज़=शायर की कापी

Roman

jagti raat akeli si lage
zindgi ek paheli si lage

roop ka rang mahal, ye duniya
ek din suni haweli si lage

hamkalami tiri khush aaye ise
shayari teri saheli si lage

ratrani si wo mahke khamosh
muskura de to chameli si lage

fan ki mahki hui mehndi se rachi
se bayaz uski hatheli si lage- Abdul ahad Saaz
#jakhira