0
आ गई उसकी नानी है (बाल कविता) - डा जियाउर रहमान जाफरी
आ गई उसकी नानी है (बाल कविता) - डा जियाउर रहमान जाफरी

रीता को परेशानी है आ गई उसकी नानी है नानी उसे हिदायत देगी नहीं ज़रा सी राहत देगी बोलेंगी वो ये मत खाओ नहीं धूप में बाहर जाओ शाम मे...

Read more »

0
हमें इसकी ज़रूरत भी नहीं है - डॉ  जियाउर रहमान जाफरी
हमें इसकी ज़रूरत भी नहीं है - डॉ जियाउर रहमान जाफरी

हमें इसकी ज़रूरत भी नहीं है तुम्हारे पास फुरसत भी नहीं है मोहब्बत का वो कुछ पैगाम दे दे सियासत को इजाज़त भी नहीं है सभी ने रख लिये बा...

Read more »

0
करनी है दिल की बात ग़ज़ल की ज़बान में - परवेज़ मुजफ्फर
करनी है दिल की बात ग़ज़ल की ज़बान में - परवेज़ मुजफ्फर

करनी है दिल की बात ग़ज़ल की ज़बान में तुम ने हमे भी थाल डाल दिया इम्तिहान में महसूस कर सको तो खुद दूर भी नहीं मौजूद हर जगह ज़मीन आसमान में ...

Read more »

0
कली का वो मसलना देखा (नज़्म) - शकुंतला सरुपरिया
कली का वो मसलना देखा (नज़्म) - शकुंतला सरुपरिया

रात के पिछले पहर मैंने वो सपना देखा खि‍लने से पहले, कली का वो मसलना देखा एक मासूम कली, कोख में मां के लेटी सिर्फ गुनाह कि नहीं बेटा, वो...

Read more »

0
लोग करने लगे जवाब तलब - राज़िक़ अंसारी
लोग करने लगे जवाब तलब - राज़िक़ अंसारी

लोग करने लगे जवाब तलब अब अदालत में हों जनाब तलब वो चराग़ों से हाथ धो बैठे कर रहे थे जो आफ़ताब तलब ज़ख़्म कुछ और दर्ज करने हैं कीजिये मत ...

Read more »

0
है जश्न-ए-बहाराँ तो चलो होली मनाएँ  - साग़र ख़य्यामी
है जश्न-ए-बहाराँ तो चलो होली मनाएँ - साग़र ख़य्यामी

ہے جشن بہاراں تو چلو ہولی منائیں اس رنگ کے سیلاب میں سب مل کے نہائیں है जश्न-ए-बहाराँ तो चलो होली मनाएँ इस रंग के सैलाब में सब मिल के नह...

Read more »
 
 
Top