1
जीवन सिंह और हिन्दी ग़ज़ल किताब " दसख़त" समीक्षा
जीवन सिंह और हिन्दी ग़ज़ल किताब " दसख़त" समीक्षा

ये वक्त हिन्दी ग़ज़ल के लिये इस अर्थ में बेहतर है कि आज हिन्दी ग़ज़ल आलोचना के केन्द्र में भी हैं | ग़ज़ल पर आलोचना की जितनी किताबें आ रही ह...

Read more »

1
नहीं मुमकिन मिलन अब दोस्तो से - महावीर उत्तरांचली
नहीं मुमकिन मिलन अब दोस्तो से - महावीर उत्तरांचली

नहीं मुमकिन मिलन अब दोस्तो से मुहब्बत में बशर तनहा हुआ है करूँ क्या ज़िक्र मैं ख़ामोशियों का यहाँ तो वक़्त भी थम-सा गया है भले ही खू...

Read more »

5
माँ के घर जब सभी बेटियाँ आ गईं - डॉ. जियाउर रहमान जाफरी
माँ के घर जब सभी बेटियाँ आ गईं - डॉ. जियाउर रहमान जाफरी

फूल खुशबू चमक तितलियां आ गईं माँ के घर जब सभी बेटियाँ आ गईं जा के अंदाज़ ताकत का फिर लग गया जब बगावत में सब लड़कियां आ गईं मुझको उस पार...

Read more »

0
मुहम्मद अली जौहर परिचय
मुहम्मद अली जौहर परिचय

मुहम्मद अली जौहर की पैदाइश 1878 में हुई थी । उनका ख़ानदान बिजनौर का था लेकिन ग़दर के बाद मुरादाबाद आ बसे थे। जब दो.साल के थे वालिद साहब का...

Read more »

1
ऐ नए साल बता- फैज़ अहमद फैज़
ऐ नए साल बता- फैज़ अहमद फैज़

ऐ नए साल बता, तुझमें नयापन क्या है हर तरफ़ ख़ल्क़ ने क्यूँ शोर मचा रक्खा है रौशनी दिन की वही, तारों भरी रात वही आज हम को नज़र आती है हर इक...

Read more »

0
ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है  - सय्यद ज़मीर जाफरी
ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है - सय्यद ज़मीर जाफरी

ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है मिरा मिज़ाज लड़कपन से लीडराना है इलाही ख़ैर दिल-ए-ज़ार ओ ना-तवान की ख़ैर कि आज उन का हर अंदाज़ हिटलरा...

Read more »
 
 
Top