बस एक नूर झलकता हुआ नज़र आया
फिर उसके बाद न जाने चमन पे क्या गुजरी

मै काश तुमको अहले-वतन बता सकता
वतन से दूर किसी बे-वतन पे क्या गुजरी

मेरे चमन में भी आई तो थी बहार मगर
मै क्या समझाऊ कि अहले-चमन पे क्या गुजरी

खामोश क्यों कातिलों-नदीम कुछ तो कहो
हमारे बाद हमारे वतन पे क्या गुजरी - जगन्नाथ आज़ाद

bas ek noor jhalkata hua nazar aaya
fir uske baad n jane chaman pe kya gujri

mai kaash tumko ahle-watan bata sakta
watan se door kisi be-watan pe kya gujri

mere chaman me bhi aai to thi bahaar magar
mai kya samjhau ki ahle-chaman  pe kya gujri

khamosh kyo ho katilo-nadeem kuch to kaho
hamare baad hamare watan pe kya gujri - Jagnnath Azad
#jakhira
मैंने देखा चेहरा चेहरा
सबसे अच्छा तेरा चेहरा

अपनी किस्मत में लिखा है
दूर से तकते रहना चेहरा

अच्छा लगता और ज्यादा
उसका रूठा-रूठा चेहरा

शब् को चाँद दिखाया मैंने
जबसे उतरा उसका चेहरा

अक्सर धोखा दे जाता है
दिल को छू लेने वाला चेहरा

आईने में शाम का मंज़र
कब तक देखू अपना चेहरा - महवर नूरी

Roman

maine dekha chehra-chehra
sabse achcha tera chehra

apni kismat me likha hai
door se takte rahna chehra

achcha lagta aur jyada
uska rutha-rutha chehra

shab ko chaand dikhaya maine
jabse utra uska chehra

aksar dhokha de jata hai
dil ko choone wala chehra

aaine me shaam ka manzar
kab tak dekhu apna chehra- Mahwar Noori
कुछ दिन तो बसो मेरी आँखों में
फिर ख़्वाब अगर हो जाओ तो क्या

कोई रंग तो दो मेरे चेहरे को
फिर ज़ख़्म अगर महकाओ तो क्या

इक आईना था सो टूट गया
अब ख़ुद से अगार शरमाओ तो क्या

मैं तन्हा था मैं तन्हा हूँ
तुम आओ तो क्या न आओ तो क्या

जब हम ही न महके तो साहब
तुम बाद-ए-सबा कहलाओ तो क्या

जब देखने वाला कोई नहीं
बुझ जाओ तो क्या, जल जाओ तो क्या- अब्दुल क़लीम

Roman
Kuch din to baso meri aankho me
fir khwab agar ho jao to kya

koi rang to do mere chehre ko
fir jakhm agar mahkao to kya

ik aaina tha so tut gaya
ab khud se agar sharmao to kya

mai tanha tha, mai tanha hu
tum aao to kya, tum n aao to kya

jab ham hi n mahke to sahab
tum bad-e-saba kahlao to kya

jab dekhne wala koi nahi
bujh jao to kya, jal jao to kya- Abdul Kaleem/Qaleem
अब कोई गुलशन ना उजड़े अब वतन आज़ाद है
रूह गंगा की हिमालय का बदन आज़ाद है

खेतियाँ सोना उगाएँ, वादियाँ मोती लुटाएँ
आज गौतम की ज़मीं, तुलसी का बन आज़ाद है

मंदिरों में शंख बाजे, मस्जिदों में हो अज़ाँ
शेख का धर्म और दीन-ए-बरहमन आज़ाद है

लूट कैसी भी हो अब इस देश में रहने न पाए
आज सबके वास्ते धरती का धन आज़ाद है - साहिर लुधियानवी
चलिए इसे सुनते है

Roman

Ab koi gulshan n ujde, ab watan aazad hai
ruh ganga ki himalay ka badan aazad hai

khetiya sona ugaye, wadiya moti lutaye
aaj goutam ki jameen, tulsi ka ban aazad hai


mandiro me shankh baaje, masjido me ho azaan
shekh ka dharma aur din-e-barhaman aazad hai

lut kaisi bhi ho ab is desh me rahne n paye
aaj sabke waaste dharti ka dhan aazad hai - Sahir Ludhiyanvi

!!!आप सभी को रक्षाबंधन  की शुभकामनाए!!!

लिपट जाता हू माँ से और मौसी मुस्कुराती है
मै उर्दू मै ग़ज़ल कहता हू हिंदी मुस्कुराती है

उछलते-खेलते बचपन में बेटा ढूंढती होगी
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है

तभी जा कर कही माँ बाप को कुछ चैन पड़ता है
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है

चमन में सुबह का मंजर बड़ा दिलचस्प होता है
कली जब सो के उठती है तो तितली मुस्कुराती है

हमें ए जिंदगी तुम पर हमेशा रश्क आता है
मसायल में घिरी रहती है फिर भी मुस्कुराती है

बड़ा गहरा तआल्लुक है सियासत से तबाही का
कोई भी शहर जलता है तो दिल्ली मुस्कुराती है- मुनव्वर राना

मायने
रश्क=इर्ष्या, मसायल=समस्याए

Roman

Lipat jata hu maa se aur mousi muskurati hai
mai urdu mai ghazal kahta hu hindi muskurati hai

uchlate-khelte bachpan me beta dhundhti hogi
tabhi to dekh kar pote ko dadi muskurati hai

tabhi ja kar kahi maa baap ko chain padta hai
ki jab sasural se ghar aa ke beti muskurati hai

chaman me subah ka manzar bada dilchasp hota hai
kali jab so ke uthti hai to titli muskurati hai

hame e zindgi tum par hamesha rashq aata hai
masayal me ghiri rahti hai fir bhi muskurati hai

bada gahara taalluk hai siyasat se tabahi ka
koi bhi shahr jalta hai to dilli muskurati hai - Munwwar Rana
रोज कुर्ते ये कलफदार कहाँ से लाऊ
तेरे मतलब का मै किरदार कहाँ से लाऊ

दिन निकलता है तो सौ काम निकल आते है
ऐ खुदा इतने मददगार कहाँ से लाऊ

सर बुलंदो के लिए सर भी कटा दू लेकिन
सरफिरो के लिए दस्तार कहाँ से लाऊ- हसीब सोज़

Roman

roz kurte ye kalafdaar kahaan se lau
tere matlab ka kirdaar kahaan se lau

din nikalata hai to sou kaam nikal aate hai
ae khuda itne madadgar kahaan se lau

sar bulando ke liye sar bhi kata du lekin
sarfiro ke liye dastar kahaa se lau - Haseeb Soz