0
हमारा झंडा - मजाज़ लखनवी
हमारा झंडा - मजाज़ लखनवी

शेर हैं चलते हैं दर्राते हुए बादलों की तरह मंडलाते हुए ज़िंदगी की रागिनी गाते हुए आज झंडा है हमारे हाथ में हाँ यह सच है भूक से हैरान ह...

Read more »

0
उसको पढ़ने को जी मचलता है - आदिल लखनवी
उसको पढ़ने को जी मचलता है - आदिल लखनवी

उसको पढ़ने को जी मचलता है, हुस्न उसका किताब जैसा है । तुम चिराग़ों की बात करते हो, हमने सूरज को बुझते देखा है । खाक उड़़कर जमीं पे आत...

Read more »

1
तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, - आलोक श्रीवास्तव
तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, - आलोक श्रीवास्तव

तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, मंदिर मस्जिद कंकर पत्थर बम भोले घर से दूर न भेज मुझे रोटी लाने, सात गगन हैं, सात समंदर बम भोले कल सपने...

Read more »

2
मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? - मुहम्मद बिन तासीर
मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? - मुहम्मद बिन तासीर

मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? मुझको तो बर्बाद किया है, और किसे बर्बाद करोगे ? हम भी हसेंगे तुम पर एक दिन, तुम भी कभी फरयाद क...

Read more »

0
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो, - शबीना अदीब
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो, - शबीना अदीब

तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो, दिल दुखे जिससे अब ऐसी न कोई बात कहो, रोज़ रोटी के लिए अपना वतन मत छोड़ो, जिसको सींचा है लहू से वो च...

Read more »

0
एक साग़र भी इनायत न हुआ याद रहे  - ब्रज नारायण चकबस्त
एक साग़र भी इनायत न हुआ याद रहे - ब्रज नारायण चकबस्त

एक साग़र भी इनायत न हुआ याद रहे । साक़िया जाते हैं, महफ़िल तेरी आबाद रहे ।। बाग़बाँ दिल से वतन को ये दुआ देता है, मैं रहूँ या न रहूँ ये...

Read more »
 
 
Top