गुलिस्ता की हद तोड़ पाए तो जानू
महक मेरे घर तक भी आए तो जानू

सुबह वक्त सूरज को सब पूजते है
कोई शाम को सर झुकाए तो जानू

तू माहिर है ! हसते हुए को रुला दे
जो रोते हुए को हसाए तो जानू

कड़ी धुप में छाँव होती है कैसे
वो पलकें जरा सा झुकाए तो जानू

जो आने से पहले करे जाऊ-जाऊ
किसी दिन वो आकार न जाए तो जानू

नशा है न वो ज़ायका है कद में
कभी वो नज़र से पिलाये तो जानू

गवाहों से 'कौसर' भरी है अदालत
सजा असल कातिल ही पाए तो जानू - पूनम कौसर

Roman

gulista ki had tod paye to jaanu
mahak mere ghar tak bhi aaye to jaanu

subah waqt suraj ko sab pujate hai
koi shaam ko sar jhukae to janu

tu mahir hai ! hasate hue ko rula de
jo rote hue ko hasae to jaanu

kadi dhoop me chaanv hoti hai kaise
wo palake jara sa jhukaye to jaanu

jo jaane se pahle kare jau-jau
kisi din wo aakar n jaye to jaanu

nasha hai n wo zayka hai kadah me
kabhi wo nazar se pilaye to janu

gawaho se 'Kousar' bhari hai adalat
saja asal qatil hi paye to jaanu - Poonam Kousar/Kausar
तुमने तो कह दिया कि मोहब्बत नहीं मिली
मुझको तो ये भी कहने की मोहलत नहीं मिली

नींदों के देस जाते, कोई ख्वाब देखते
लेकिन दिया जलाने से फुरसत नहीं मिली

तुझको तो खैर शहर के लोगों का खौफ था
और मुझको अपने घर से इजाज़त नहीं मिली

फिर इख्तिलाफ-ए-राय की सूरत निकल पडी
अपनी यहाँ किसी से भी आदत नहीं मिली

बे-जार यूं हुए कि तेरे अहद मैं हमें
सब कुछ मिला, सुकून की दौलत नहीं मिली - नोशी गिलानी

मायने
बेजार= तंग आना, अहद वादा

Roman
Tumne to kah diya ki mohbbat nahi mili
mujhko to ye bhi kahne ki mohlat nahi mili

nindo ke des jate, koi khwab dekhte
lekin diya jalane se fusat nahi mili

tujhko to khair shahar ke logo ka khouf tha
aur mujhko apne ghar se ijajat nahi mili

phir ikhtilaf-e-rai ki surat nikal padi
apni yaha kisi se bhi aadat nahi mili

be-zar yu hue ki tere ahad me hame
sab kuch mila, sukun ki doulat nahi mili - Noshi Gilani

Her Official Website http://www.noshigilani.com/
खैर, मै जीत तो नहीं पाया
हाथ उसके भी कुछ नहीं आया

चोर था मन में इसलिए मुझको
हर कोई आइना नज़र आया

ये मुलाकात भी जरुरी थी
सर्द रिश्तों को शाल दे आया

उठ रहे है सवाल मौसम पर
एक ही फूल कैसे मुरझाया

हाफ़िज़े पर गुरुर है उसको
पर मिरे ऐब ही गिना पाया

कहकशा फिर दमक रही है मगर
वो सितारा नज़र नहीं आया - विकास शर्मा राज़

मायने
हाफ़िज़े=याददाश्त, कहकशा=आकाशगंगा

Roman
khair, mai jeet to nahi paya
haath uske bhi kuch nahi aaya

chor the man me isliye mujhko
har koi aaina nazar aaya

ye mulakat bhi jaruri thi
sard rishto ko shaal de aaya

uth rahe hai sawal mousam par
ek hi phool kaise murjhaya

hafize par gurur hai usko
par mere aeb hi gina paya

kahkasha fir damak rahi hai magar
wo sitara nazar nahi aaya - Vikas Sharma "Raaz"
अबके बरसात में गर झूम के आये बादल
प्यास कुछ पिछले जनम की भी बुझाये बादल

यादे-माज़ी न मुझे आके दिलाए बादल
अब मुझे खून के आसू न रुलाये बादल

फसले-गुल मेरी तमन्नाओ की लेकर लौटे
फिर मुझे चाँद से इक बार मिलाये बादल

उसकी आँखों की हंसी झील से पानी ले जाय
अबके अहसां न समुन्दर का उठाये बादल

दिल की बेआब ज़मीं कब से बंजर है शैदा
काश इसमें भी तो कुछ फूल उगाए बादल – शैदा बघौनवी

Roman

abke barsaat me gar jhum ke aaye badal
pyas kuch pichhle janam ki bhi bujhaye badal

yaade-maazi n mujhe aake dilaye badal
ab mujhe khoon ke aansu n rulaye badal

fasale-gul meri tamnnao ki lekar loute
fir mujhe chaand se ik baar milaye badal

uski aankho ki haseen jhil se paani le jay badal
abke ahsaan n samundar ka uthaye badal

dil kee beaab zameen kab se banjar hai shaida
kaash isme bhi to kuch phool ugaye badal- Shaida Baghounavi
चाँद शेरी साहब के जन्मदिवस पर उन्हें शुभकामनाए और उनकी यह ग़ज़ल :
Chand Sheri
सय्यादो से आजाद फज़ा मांग रहे हो
गुलचीनो से गुलशन का भला मांग रहे हो

धनवानों से उम्मीद है क्या रहमो करम की
नादां हो क्यू इनसे दया मांग रहे हो

रहजन से भी बदतर है बहुत आज का रहबर
इक अंधे से मंजिल का पता मांग रहे हो

जो खुद ही खतावार है इन्साफ के मुजरिम
क्यू अपने लिए उनसे सजा मांग रहे हो

घर खंजरों में अपना बनाया है तो शेरी
क्यू चैन से जीने की दुआ मांग रहे हो – चाँद शेरी

मायने
सय्यद=शिकारी, गुलचीनो=फुल चुनने वाला, रहजन=लुटेरा, रहबर=राह दिखाने वाला

Roman

Sayyado se azad faza maang rahe ho
Gulcheeno se gulshan ka bhala maang rahe ho

Dhanwano se ummid hai kya rahmo-karam ki
Naadan ho kyu inse dayaa mang rahe ho

Rahjan se bhi badtar hai bahut aaj ka rahbar
Ik andhe se manjil ka pata maang rahe ho

Jo khud hi khatawar hai insaaf ke mujrim
Kyu apne liye unse sajaa maang rahe ho

Ghar khanjro me apna banaya hai to sheri
Kyu chain se jeene ki duaa maang rahe ho – Chand Sheri
फना के गार से ख्वाहिशो के लंबे हाथ बाहर थे
वो दलदल में सर तक धस चुके थे हाथ बाहर थे

हमारी जिंदगी भर पाँव चादर से रहे बाहर
ताज्जुब है सिकंदर के कफ़न से हाथ बाहर थे

इधर नोची खासोती औरते दहशतजदा बच्चे,
सलाखे दरमियाँ थी कुछ लरज़ते हाथ बाहर थे

मै उसे रोकता कैसे मै उससे पूछता भी क्या
उसकी गोद से दो नन्हे-नन्हे हाथ बाहर थे

खता कि है मुजफ्फर ने यक़ीनन हाथ फैलाकर
मगर उस वक्त जेबो से तुम्हारे हाथ बहार थे – मुजफ्फर हनफ़ी

मायने
फ़ना=मृत्यु, गार=गड्डा

Roman

Fanaa ke gaar se khwahisho ke lambe haath baahar the
Wo daldal me sar tak dhas chuke the haath baahar the

Hamari zindgi bhar paanv chadar se rahe baahar
Tajjub hai sikandar ke kafan se haath baahar the

Idhar nochi khasoti aurte, dahshatjda bachche,
Salakhe darmiyaan thi kuch larjate haath baahar the

Mai use rokta kaise mai use puchhta bhi kya
Uski god se do nanhe-nanhe hath baahar the

Khata ki hai muzffar ne yakinan haath failakar
Magar us waqt jebo se tumhare haath baahar the – Muzffar Hanfi