0
कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान  - अजमल सुल्तानपुरी
कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान - अजमल सुल्तानपुरी

सभी पाठकों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए मुसलमाँ और हिन्दू की जान  कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान  मैं उस को ढूँढ रहा हूँ  म...

Read more »

0
आज़ादी
आज़ादी

शेरों को आज़ादी है आज़ादी के पाबंद रहें जिसको चाहें चीरें फाड़ें खायें पियें आनंद रहें शाहीं को आज़ादी है आज़ादी से परवाज़ करे नन्ही मु...

Read more »

1
हमारा झंडा - मजाज़ लखनवी
हमारा झंडा - मजाज़ लखनवी

शेर हैं चलते हैं दर्राते हुए बादलों की तरह मंडलाते हुए ज़िंदगी की रागिनी गाते हुए आज झंडा है हमारे हाथ में हाँ यह सच है भूक से हैरान ह...

Read more »

0
उसको पढ़ने को जी मचलता है - आदिल लखनवी
उसको पढ़ने को जी मचलता है - आदिल लखनवी

उसको पढ़ने को जी मचलता है, हुस्न उसका किताब जैसा है । तुम चिराग़ों की बात करते हो, हमने सूरज को बुझते देखा है । खाक उड़़कर जमीं पे आत...

Read more »

1
तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, - आलोक श्रीवास्तव
तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, - आलोक श्रीवास्तव

तेरा सब कुछ मेरे अंदर बम भोले, मंदिर मस्जिद कंकर पत्थर बम भोले घर से दूर न भेज मुझे रोटी लाने, सात गगन हैं, सात समंदर बम भोले कल सपने...

Read more »

2
मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? - मुहम्मद बिन तासीर
मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? - मुहम्मद बिन तासीर

मेरी वफाये याद करोगे, रोओगे फरयाद करोगे ? मुझको तो बर्बाद किया है, और किसे बर्बाद करोगे ? हम भी हसेंगे तुम पर एक दिन, तुम भी कभी फरयाद क...

Read more »
 
 
Top