बस दो चार अफवाहें उड़ा दो
यहाँ जब चाहे दंगा करा दो

रोटी-वोटी लोग भूल जायेंगे
बस मंदिर-मस्जिद मुद्दा उठा दो

भडकाना हो अगर बेवकूफों को
सिर्फ एक फर्जी विडियो चला दो

नासमझ, नादान भेडो का झुण्ड है
जिधर मर्जी आये, उधर हंका दो

सियासत का खास दाव है यही
चुनाव आये तो सब को लड़ा दो

मजहब के नाम पर वोट मांगे जो
उस नेता को दहलीज से भगा दो

अरमाँ का हिंदोस्ता बचाना है तो
हिंदू, मुस्लिम का फर्क मिटा दो - अरमान खान 

Roman

bas do char afwahe uda do
yaha jab chahe danga kara do

roti-woti log bhul jaynege
bas mandir-masjid mudda utha do

bhadkana ho agar bewkufo ko
sirf ek farji video chala do

nasamjh, nadan bhedo ka jhund hai
jidhar marji aaye udhar haka do

siyasat ka khas daav hai yahi
chunav aaye to sab ko lada do

majhab ke naam par vote mange jo
us neta ko dahleej se bhaga do

armaan ka hindostaan bachana hai to
hindu muslim ka fark mita do- Armaan Khan
Armaan Khan on FB
#jakhira
हर कदम नित नए सांचे में ढल जाते है लोग
देखते ही देखते, कितने बदल जाते है लोग

किसलिए कीजे किसी गुमगश्ता जन्नत की तलाश
जबकि मिटटी के खिलोने से बहल जाते है लोग

कितने सादादिल है सुनके अब भी आवाजे-ज़रस
पशोपेस से बेखबर, घर से निकल जाते है लोग

अपने साए-साए सर न्योढाए, अहिस्ता-खुरम
जाने किस मंजिल की जानिब आजकल जाते है लोग

शमा की मानिंद अहले-अंजुमन से बेनियाज
अक्सर अपनी आग में चुपचाप जल जाते है लोग

शायर उनकी दोस्ती का अब भी दम भरते है आप
ठोकरे खाकर तो सुनते है संभल जाते है लोग- हिमायत अली शायर

मायने
गुमगश्ता=खोई हुई, आवाजे-ज़रस=काफिला के आगे-आगे बजने वाली घंटी की आवाज़, आहिस्ता-खुराम=आहिस्ता चलते हुए, अहले-अंजुमन=दुनिया वाले, बेनियाज़=बेपरवाह

Roman

har kadam nit naye saanche me dhal jate hai log
dekhte hi dekhte, kitne badal jate hai log

kisliye kije kisi gumgasta jannat ki talash
jabki mitti ke khilone se bahal jate hai log

kitne sadadil hai sunke ab bhi aawaje-zaras
pashopes se bekhabar, ghar se nikal jate hai log

apne saye-saye sar nyodhaye, ahista-khuram
jane kis manjil ki janib aajkal jate hai log

shama ki manind ahle-anjuman se beniyaz
aksar apni aag me chupchap jal jate hai log

shayar apni dosti ka ab bhi dam bharte hai aap
thokre khakar to sunte hai sambhal jate hai log- Himayat Ali Shayar
#jakhira
वो भी क्या लोग थे आसान थी राहें जिनकी
बन्द आँखें किये इक सिम्त चले जाते थे
अक़्ल-ओ-दिल ख़्वाब-ओ-हक़ीक़त की न उलझन न ख़लिश
मुख़्तलिफ़ जलवे निगाहों को न बहलाते थे

इश्क़ सादा भी था बेख़ुद भी जुनूँपेशा भी
हुस्न को अपनी अदाओं पे हिजाब आता था
फूल खिलते थे तो फूलों में नशा होता था
रात ढलती थी तो शीशों पे शबाब आता था

चाँदनी कैफ़असर रूहअफ़्ज़ा होती थी
अब्र आता था तो बदमस्त भी हो जाते थे
दिन में शोरिश भी हुआ करती थी हंगामे भी
रात की गोद में मूँह ढाँप के सो जाते थे

नर्म रौ वक़्त के धारे पे सफ़ीने थे रवाँ
साहिल-ओ-बह्र के आईन न बदलते थे कभी
नाख़ुदाओं पे भरोसा था मुक़द्दर पे यक़ीं
चादर-ए-आब से तूफ़ान न उबलते थे कभी


हम के तूफ़ानों के पाले भी सताये भी हैं
बर्क़-ओ-बाराँ में वो ही शम्में जलायें कैसे
ये जो आतिशकदा दुनिया में भड़क उट्ठा है
आँसुओं से उसे हर बार बुझायें कैसे

कर दिया बर्क़-ओ-बुख़ारात ने महशर बर्पा
अपने दफ़्तर में लिताफ़त के सिवा कुछ भी नहीं
घिर गये वक़्त की बेरहम कशाकश में मगर
पास तहज़ीब की दौलत के सिवा कुछ भी नहीं

ये अंधेरा ये तलातुम ये हवाओं का ख़रोश
इस में तारों की सुबुक नर्म ज़िया क्या करती
तल्ख़ी-ए-ज़ीस्त से कड़वा हुआ आशिक़ का मिज़ाज
निगाह-ए-यार की मासूम अदा क्या करती

सफ़र आसान था तो मन्ज़िल भी बड़ी रौशन थी
आज किस दर्जा पुरअसरार हैं राहें अपनी
कितनी परछाइयाँ आती हैं तजल्ली बन कर
कितने जल्वों से उलझती हैं निगाहें अपनी - आले अहमद सुरूर

Roman
wo bhi kya log the aasan thi rahe jinki
band aankhe kiye ik simt chale jate the
akl-o-dil khwab-o-haqikat ki n uljhan n khalish
mukhtlif jalwe nigaho ko n bahlate the

ishq sada bhi tha bekhud bhi junupesha bhi
husn ko apni adao pe hijab aata tha
ful khilte the to phoolo me nasha hota tha
rat dhalti thi to shisho me shabab aata tha

chandni kaifasar ruhafza hoti thi
abr aata tha to badmast bhi ho jate the
din me shorish bi hua karti thi hangame bhi
rat ki god me muh dhap ke so jate the

narm rou waqt ke dhare pe safine the ranva
sahil-o-bah ke aain n badlate the kabhi
nakhudao pe bharosa tha mukddar pe yakeen
chadar-e-aab se tufaan n ublate the kabhi

ham ke tufaano ke pale bhi sataye bhi hai
bark-o-bara me wo hi shamme jalaye kaise
ye jo aatishkda duniya me bhadak uthta hai
aansuo se use har baar bujhaye kaise

kar diya bark-o-bukharat ne mahshar barpa
apne daftar me litafat ke siwa kuch bhi nahi
ghir gaye waqt ki beraham kashakash me magar
paas tahjeeb ki doulat ke siwa kuch bhi nahi

ye andhera ye talatum ye hawao ka kharosh
is me taro ki subuk narm zia kya karti
talkhi-e-jist se kadwa hua aashiq ka mizaz
nigah-e-yaar ki masoom ada kya karti

safar aasan tha to manjil bhi badi roushan thi
aaj kis darja purasrar hai rahe apni
kitni parchaiya aati hai tajlli ban kar
kitne jalwo se uljhati hai nigahe apni- Ale Ahmad Suroor
सिर्फ धोखा था कोई तेरा कि जो था वो न था
मैंने सोचा था तुझे जैसा कि जो था वो न था

मंजिलो की जुस्तजू में घर से मै निकला मगर
था सभी कुछ ठीक पर रस्ता कि जो था वो न था

साथ था दिन भर वो मेरे इक मुसाफिर की तरह
शाम जब आयी तो ये जाना कि जो था वो न था

उसके भीतर झांकते ही मुझको अंदाजा हुआ
था वो अपनी जात में ऐसा कि जो था वो न था

तुने नाहक मेरी बातो का बुरा माना है दोस्त
गौर करना बस मिरा कहना कि जो था वो न था - परवेज़ वारिस (राजकोट से )

Roman

sirf dhokha tha koi tera ki jo tha wo n tha
maine socha tha tujhe jaisa ki jo tha wo n tha

manzilo ki justju me ghar se mai nikla magar
tha sabhi kuch thek par rasta ki jo tha wo n tha

sath tha din bhar wo mere ik musafir ki tarah
sham jab aayi to ye jana ki jo tha wo n tha

uske bheetar jhankte hi mujhko andaja hua
tha wo apni jaat me aisa ki jo tha wo n tha

tune nahak meri baato ka bura mana hai dost
gour karna bar mira kahna ki jo tha wo n tha - Parvez Waris
#jakhira
वो ख़ुश्बू बदन थी
मगर ख़ुद में सिमटी सी इक उम्र तक यूँ ही बैठी रही
बस इक लम्स की मुन्तज़िर
उसे एक शब ज्यों ही मैंने छुआ, उससे तितली उड़ी,
फिर इक और इक और तितली उडी, देर तक तितलियाँ यूँ ही उडती रहीं
छंटी तितलियाँ जब कहीं भी न थी वो
तभी से तअक़्क़ुब में हूँ तितलियों के
इकठ्ठा किये जा रहा हूँ इन्हें मैं
के इक रोज़ इनसे दुबारा मैं तख़्लीक़ उसको करूँगा
जो ख़ुश्बू बदन थी
वो ख़ुश्बू बदन थी….- स्वप्निल तिवारी आतिश

Roman

Wo khushbu badan thi
Magar khud me simti si ek umr tak u hi baithi rahi
Bas ek lams ki muntjir
Use ek shab jyo hi maine chhua, use titli udi
Fir ek aur ek aur titli udi, der tak titliya u hi udti rahi
Chati titliya jab kahi bhi n thi wo
Tabhi se taakkub me hu titliyo ke
Ikththa kiye jar aha hu inhe mai
Ke ek roz inse dubara mai takhlik usko karunga
Jo khushbu badan thi
Wo khushbu badan thi …– Swapnil Tiwari Atish

Urdu
وو خوشبو بدن تھی
مگر خود میں سمٹی سی اک امر تک یوں ہی بیٹھی رہی
بس اک لمس کی منتظر
اسے ایک شب جیوں ہی میں نے چھوا اس سے تتلی اڑی 
پھر اک اور اک اور تتلی اڑی، دیر تک تتلیاں یوں ہی اڑت
ی رہیں
چھنٹی تتلیاں جب کہیں بھی نہ تھی وو
تبھی سے تعقب میں ہوں تتلیوں کے
کیے جا رہا ہوں انہیں میں اکٹھا 
کہ اک روز انسے دوبارہ میں تخلیق اس کو کرونگا
جو خوشبو بدن تھا
وو خوشبو بدن تھا -स्वप्निल तिवारी आतिश
#jakhira
हर एक धडकन अजब आहट
परिंदों जैसी घबराहट

मिरे लहजे में शीरीनी
मिरी आँखों में कड़वाहट

मिरी पहचान है शायद
मिरे हिस्से कि उकताहट

सिमटता शेर है हैयत में
बदन कि सी यह गदराहट

मुसिर मै, फन मिरा जिद पर
यह बालकहट यह तिरयाहट

उजाले डस न ले इस को
बचा रक्खो यह धुंधलाहट

लहू की सीढियों पर है
कोई बढती हुई आहट - अब्दुल अहद साज़

मायने
शीरीनी=मिठास, हैयत=फॉर्म, मुसिर=जिद पर

Roman

har ek dhadkan ajab aahat
parindo jaisi ghabrahat

mire lahje me shirini
miri aankho me kadwahat

miri pahchan hai shayad
mire hisse ki uktahat

simtta sher hai haiyat me
badan ki si yah gadrahat

musir mai, fan mira jid par
yah balakhat yah tiryahat

ujale das n le is ko
bacha rakkho yah dhundhlahat

lahu ki sidhiyo par hai
koi badhti hui aahat- Abdul Ahad Saaz
#jakhira