गणतंत्र दिवस के मौके पर आप सबको बधाई! आज इस मौके पर मुजफ्फर हनफ़ी साहब की एक नज्म पेश है :-

हरियाणा, कश्मीर, उड़ीसा, महाराष्ट्र, पंजाब
करें तुझे आदाब
कर्नाटक, बंगाल, आंध्रा, तमिल नाडु, आसाम
करते हैं प्रणाम
तेरे दरवाज़े पर सर ख़म केरल, राजस्थान
मेरे हिन्दुस्तान, मेरे हिन्दुस्तान

ताज, अजंता, काशी, साँची, दिल्ली और चित्तोड़
कितनी लम्बी दौड़
चिश्ती, नानक, खुसरो, गांधी, अकबर और अशोक
सब हिंसा की रोक
तेरी बाँकी आनबान है सब से ऊँची शान
मेरे हिन्दुस्तान,  मेरे हिन्दुस्तान

जैन, पारसी, सिख, ईसाई, हिन्दू, मुस्लिम सारे
तेरे राजदुलारे
बंगाली, पंजाबी, उर्दू, हिंदी और मलयालम
एक गीत के सरगम
तेरी ज़ात अज़ीम है सब से तेरी बात महान
मेरे हिन्दुस्तान, मेरे हिन्दुस्तान -  मुज़फ्फर हनफ़ी

Roman

Hariyana, Kashmir, odisha, Maharashtra, Panjab
kare tujhe adab
Karnatak, Bangal, Andhra, Tamilnadu, Asam
karte hai pranam
tere darwaje par khar kham Keral, Rajsthan
mere Hindustan, mere Hindustan

Taaj, Ajanta, Kashi, Sanchi, Delhi aur Chittod
kitni lambi doud
Chishti, Nanak, Khusro, Gandhi, Akbar aur Ashok
sab hinsa ki rok
teri baaki aanban hai sab se unchi shaan
mere Hindustan, mere Hindustan

Jain, Parsi, Sikkh, Isai, Hindu Muslim sare
tere rajdulare
Bangali, Panjabi, Urdu, Hindi aur Malyalam
ek geet ke sargam
teri jaat azeem hai, sab se teri baat mahaan
mere Hindustan, mere Hindustan- Muzffar Hanfi
#jakhira
नाव दिल की डुबो रही है शाम
मौज दर मौज हो रही है शाम

ये सितारे नहीं है, आंसू है
ऐसा लगता है रो रही है शाम

बूढ़े सूरज ने झुक के दस्तक दी
बंद कमरे में सो रही है शाम

नींद से जाग कर सुलगते होठ
पानियों में भिगो रही है शाम

सर्द मौसम में गर्म अश्को से
अपने चेहरे को धो रही है शाम

चाँद कटेगा फसल सूरज की
धूप के बीज बो रही है शाम

नाम किसका "फ़िराक" याद आया
दिल में कांटे चुभो रही है शाम - फ़िराक जलालपुरी

Roman

Naav dil ki dubo rahi hai shaam
mouz dar mouz ho rahi hai shaam

ye sitare nahi hai, aansu hai
aisa lagta hai ro rahi hai shaam

budhe suraj ne dastak di
band kamre me so rahi hai shaam

nind se jaag kar sulgate hoth
paniyo me bhigo rahi hai shaam

sard mousam me garm ashqo se
apne chehre ko dho rahi hai shaam

chaand katega fasal suraj ki
dhoop ke beej bo rahi hai shaam

naam kiska "Firaq" yaad aaya
dil me kaante chubho rahi hai shaam - Firaq Jalalpuri
#jakhira
पूछो न उससे कौन है, आता कहाँ से है
दिल की कहानी देखो, सुनाता कहाँ से है

आवाज़ गूँजती है हमेशा इक आस-पास
है कौन मेरा, और बुलाता कहाँ से है

लमहा खु़शी का हो कि दुखों का कि हिज्र का
आँसू हमारी आँख में आता कहाँ से है

घर ले लिया है अब की उसी के पड़ोस में
इस बार देखें आग लगाता कहाँ से है

उसकी तरक्कियो की कहानी में, मैं भी हूँ
अब देखना है ये कि सुनाता कहाँ से है

चेहरे की लालिमा से यक़ीं हो गया हमें
सूरज ये रोज़ सुबह् को आता कहाँ से है

तूने ग़ज़ल पढ़ी तो ‘अतुल’ कुछ ने दाद दी
कुछ लोग सोचने लगे लाता कहाँ से है - अतुल अजनबी

Roman

puchho n usse koun hai, aata kaha se hai
dil ki kahani dekho, sunata kaha se hai

awaz gunjati hai hamesha ik aas-pas
hai koun mera, aur bulata kaha se hai

ghar le liya hai ab ki usi ke pados me
is baar dekhe aag lagata kaha se hai

uski tarkkiyo ki kahani me, mai bhi hu
ab dekhna hai ye ki sunata kaha se hai

chehre ki lalima se yakeen ho gaya hame
suraj ye roz subah aata kaha se hai

tune ghazal padhi to 'Atul' kuch ne daad di
kuch log sochne lage lata kaha se hai - Atul Ajnabi
#jakhira
हसरत है कि तुझे सामने बैठे कभी देखूं
मैं तुझ से मुखातिब हूँ, तेरा हाल भी पूछूं

दिल में है मुलाकात की ख्वाहिश की दबी आग
मेहंदी लगे हाथों को छुपा कर कहाँ रखूँ

जिस नाम से तूने मुझे बचपन से पुकारा
इक उम्र गुजरने पे भी वो नाम ना भूलूँ

तू अश्क ही बन के मेरी आँखों में समा जा
मैं आइना देखूं तो तेरा अक्स भी देखूं

पूछूं कभी गुंचों से सितारों से हवा से
तुझ से ही मगर आ के तेरा नाम ना पूछूं

ऐ मेरा तमन्ना के सितारे तू कहाँ है
तू आये तो ये जिस्म शब्-ए-गम को न सौंपूं - किश्वर नाहिद

Roman

hasrat hai ki tujhe samne baithe kabhi dekhu
mai tujhse mukhtib hu, tera haal bhi puchu

dil me hai mulakat ki khawahish ki dabi aag
mehandi lege haatho ko chhupa kar kahaa rakhu

jis naam se tune mujhe bachpan se pukaara
ik umra gujrane pe bhi wo naam n bhulu

tu ashq hi ban ke meri aankho me sama ja
mai aaina dekhu to tera aks bhi dekhu

puchu kabhi guncho se, sitaro se, hawa se
tujh se ho magar aa ke tera naam na puchu

ae mera tamnna ke sitare tu kahaa hai
tu aaye to ye jism shab-e-gam ko n sopu - Kishwar Naheed
#jakhira
जिंदगी इस तरह गुजारते है
कर्ज है और उसे उतारते है

वस्ल पे शर्त बाँध लेते है
और यह शर्त रोज हारते है

आयनों में तो अक्स है खुद का
लोग पत्थर यह किसको मारते है

कितने दिल इसमें गूंध लेते है
जुल्फ-ए-खूगर को जब सवारते है

एक बाज़ी पे भूल मत जाना
पेश-ए-फतह भी लोग हारते है – ज़हीर अब्बास (पाकिस्तान)

Roman

Zindgi is tarah gujarate hai
karj hai aur use utarate hai

wasl pe shart baandh lete hai
aur yah shart roj haarte hai

aayno me to aks hai khud ka
log patthar yah kisko marte hai

kitne dil isme gundh lete hai
julf-e-khugar ko jab swarate hai

ek baazi pe bhul mat jana
pesh-e-fatah bhi log harte hai - Zahir Abbas
#jakhira
कुछ तो रात का ग़म था लोगों कुछ मेरी तन्हाई थी
दिल तो मेरा अपना ही था लेकिन प्रीत पराई थी

अबके बरस ये कैसा मौसम कैसी रूत ये आई थी
बाहर सावन बरस रहा था अंदर मैं भर आई थी।

रस्ता जिसका तकते–तकते सावन सारा बीत गया
आनेवाले ने कहलाया मैं ज़ालिम हरजाई थी

बात अंधेरे में होती तो अपने ग़म को ढंक लेती
बाहर सूरज डूब रहा था आंख मेरी भर आई थी

आंसू, आहें, बिजली, बादल और ये काले रंग तमाम
मैं अपनी किस्मत में लोगों रब से लिखवा लाई थी - रुखसाना सिद्दीकी

Roman
kuch to raat ka gam tha logo kuch meri tanhai thi
dil to mera apna hi tha lekin preet parai thi

abke baras ye kaisa mousam keisi rut ye aai thi
bahar sawan baras raha tha andar mai bhar aai thi

rasta jiska takte-takte sawan sara beet gaya
aane wale ne kahlaya mai jalim harjai thi

baat andhere me hoti to apne gham ko dhak leti
bahar suraj dub raha tha aankh meri bhar aai thi

aahu, aahe, bijli, badal aur ye kaale rang tamaam
mai apni kismat me logo rab se likhwa laai thi - Rukhsana Siddiqui
#jakhira
Excel Utilities Download