0
Loading...



सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा
हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलिस्ताँ हमारा

ग़ुर्बत में हों अगर हम रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी दिल हो जहाँ हमारा - अल्लामा इकबाल
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

बारूदों के ढेर पे अपना देश अगर जलता है
जलने दो बस काम सियासत का अपना चलता है
ऐसे नेताओ को पहले सरहद पर पहुचाओ
वतन की आग बुझाओ .... वतन की आग बुझाओ - अल्लामा इकबाल
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

मुसलमाँ और हिन्दू की जान
कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान
मैं उस को ढूँढ रहा हूँ
मिरे बचपन का हिन्दोस्तान
न बंगलादेश न पाकिस्तान
मिरी आशा मिरा अरमान
वो पूरा पूरा हिन्दोस्तान
मैं उस को ढूँढ रहा हूँ - अजमल सुल्तानपुरी
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

वो आजादी, बहिश्तों की हवाएं दम भरें जिसका
वो आजादी, फरिश्ते अर्श पर चरचा करें जिसका
हिमालय की तरह दुनिया में आज ऊंचा है सर अपना
कि राज अपना है, काज अपना है, घर अपना है, दर अपना - फय्याज ग्वालयरी / फय्याज ग्वालियरी
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

कोई भारत में अब दुख से तड़पता रह नहीं सकता
गुलामी ऐसी आजादी से अच्छी कह नहीं सकता
किसी के सामने अब अपनी गर्दन झुक नहीं सकती
खुदा चाहे तो भारत की तरक्की रुक नहीं सकती। - फय्याज ग्वालयरी / फय्याज ग्वालियरी
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

देश है चाँद, उस का नूर है हम
अपनी आज़ादी पे मसरूर है हम
नाम पर उसके दिल धडकता है
यूँ तो हिन्दुस्तान से दूर है हम - परवेज़ मुजफ्फर
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

इक दिया नाम का आज़ादी के
उसने जलते हुए होठो से कहाँ
चाहे जिस मुल्क से गेहूं माँगो
हाथ फ़ैलाने की आज़ादी है - कैफ़ी आज़मी
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

फ़सादियों से वतन को बचा के रखना है
चिराग़ प्यार का हमको जला के रखना है

न जाने कौन मुसीबत में काम आ जाये
हरेक शख्स से रिश्ता बना के रखना है - अतुल अजनबी
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

मैं देश में ही ढूँढ़ रहा ऐसे देश को
हाथों में जिसके एक तिरंगा निशान था ।

इस भीड़ में कहीं गिरा है खो गया कहीं
इस देश का कभी जो एक संविधान था । - हनुमंत नायडू
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

फ़ज़ा की आबरू है परचमे-गर्दूं वक़ार अपना
कि है इस दौर की आज़ाद क़ौमों में शुमार अपना - त्रिलोकचंद मरहूम
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

फ़ज़ा की आबरू है परचमे-गर्दूं वक़ार अपना
कि है इस दौर की आज़ाद क़ौमों में शुमार अपना - ज़फर अली खान
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*


फिर पहले जैसा आबाद हो जाऊं
मै भी अशफ़ाक और आज़ाद हो जाऊं

हो जाऊं उधम, राजगुरु और बिस्मिल
वन्दे मातरम की फ़रियाद हो जाऊं

हो मुकम्मल शेर ये वतन के लिए
हर मिशरे पे मै इरशाद हो जाऊं - आला चौहान "मुसाफिर"
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

देंगे हम जान इस तिरंगे पर,
अपना ईमान इस तिरंगे पर।
हमको अभिमान इस तिरंगे पर,
देश का मान इस तिरंगे पर। - अभिषेक कुमार अम्बर
loading...

Post a Comment

 
Top