0
हर इक मकाँ में जला फिर दिया दिवाली का
हर इक तरफ़ को उजाला हुआ दिवाली का
सभी के दिल में समाँ भा गया दिवाली का
किसी के दिल को मज़ा ख़ुश लगा दीवाली का
अजब बहार का है दिन बना दिवाली का

जहाँ में यारो अजब तरह का है ये त्यौहार
किसी ने नक़्द लिया और कोई करे है उधार
खिलौने खेलों बताशों का गर्म है बाज़ार
हर इक दुकाँ में चराग़ों की हो रही है बहार

सभों को फ़िक्र है अब जा-ब-जा दिवाली का
मिठाइयों की दुकानें लगा के हलवाई
पुकारते हैं कि ''ला ला! दिवाली है आई''
बताशे ले कोई बर्फ़ी किसी ने तुलवाई
खिलौने वालों की इन से ज़ियादा बिन आई
गोया उन्हों के वाँ राज आ गया दिवाली का

सिरफ़ हराम की कौड़ी का जिन का है बेवपार
उन्हों ने खाया है इस दिन के वास्ते है उधार
कहे है हँस के क़रज़-ख़्वाह से हर इक इक बार
दिवाली आई है सब दे दिलाएँगे ऐ यार
ख़ुदा के फ़ज़्ल से है आसरा दिवाली का

मकान लेप के ठलिया जो कोरी रखवाई
जला चराग़ को कौड़ी वो जल्द झनकाई
असल जुआरी थे उन में तो जान सी आई
ख़ुशी से कूद उछल कर पुकारे ओ भाई
शुगून पहले करो तुम ज़रा दिवाली का

शगुन की बाज़ी लगी पहले यार गंडे की
फिर उस से बढ़ के लगी तीन चार गंडे की
फिरी जो ऐसी तरह बार बार गंडे की
तो आगे लगने लगी फिर हज़ार गंडे की
कमाल निर्ख़ है फिर तो लगा दिवाली का

किसी ने घर की हवेली गिरो रखा हारी
जो कुछ थी जिंस मयस्सर बना बना हारी
किसी ने चीज़ किसी किसी की चुरा छुपा हारी
किसी ने गठरी पड़ोसन की अपनी ला हारी
ये हार जीत का चर्चा पड़ा दिवाली का

किसी को दाव पे लानक्की मूठ ने मारा
किसी के घर पे धरा सोख़्ता ने अँगारा
किसी को नर्द ने चौपड़ के कर दिया ज़ारा
लंगोटी बाँध के बैठा इज़ार तक हारा
ये शोर आ के मचा जा-ब-जा दिवाली का

किसी की जोरू कहे है पुकार ऐ फड़वे
बहू की नौग्रह बेटे के हाथ के खड़वे
जो घर में आवे तो सब मिल किए हैं सौ घड़वे
निकल तू याँ से तिरा काम याँ नहीं भड़वे
ख़ुदा ने तुझ को तो शोहदा किया दिवाली का

वो उस के झोंटे पकड़ कर कहे है मारुँगा
तिरा जो गहना है सब तार तार उतारूँगा
हवेली अपनी तो इक दाव पर मैं हारूँगा
ये सब तो हारा हूँ ख़ंदी तुझ भी हारूँगा
चढ़ा है मुझ को भी अब तो नशा दिवाली का

तुझे ख़बर नहीं ख़ंदी ये लत वो प्यारी है
किसी ज़माने में आगे हुआ जो ज्वारी है
तो उस ने जोरू की नथ और इज़ार उतारी है
इज़ार क्या है कि जोरू तलक भी हारी है
सुना ये तू ने नहीं माजरा दिवाली का

जहाँ में ये जो दीवाली की सैर होती है
तो ज़र से होती है और ज़र बग़ैर होती है
जो हारे उन पे ख़राबी की फ़ैर होती है
और उन में आन के जिन जिन की ख़ैर होती है
तो आड़े आता है उन के दिया दिवाली का

ये बातें सच हैं न झूट उन को जानियो यारो!
नसीहतें हैं उन्हें दिल से मानियो यारो!
जहाँ को जाओ ये क़िस्सा बखानियो यारो!
जो ज्वारी हो न बुरा उस का मानियो यारो
'नज़ीर' आप भी है ज्वारिया दीवाली का
- नज़ीर अकबराबादी

har ek makaaN me jala phir diya diwali ka
har ek taraf ko ujala hua diwali ka
sabhi ke dil me samaaN bha gaya diwali ka
kisi ke dil ko maja khush laga diwali ka
ajab bahaar ka hai din bana diwali ka

jahaaN me yaro ajab tarah ka hai ye tyouhaar
kisi ne nakad diya aur koi kare hai udhaar
khilone khelo batasho ka garm hai bazaar
har ek dukaaN me charago ki ho rahi hai bahaar

sabhi ko fikr hai ab ja-b-ja diwali ka
mithaiyoN ki dukane laga ke halwai
ukarte hai ki "LA La! diwali hai aai"
batashe le koi barfi kisi ne tulwai
khione walo ki in se jyada ban aai
goya unho ke waa raaj aa gaya diwali ka

sirf haram ki kodi ka jin ka hai bevyapar
unhone khaya hai is din ke waste hai udhaar
kahe hai hans ke karaj-khwah se har ek baar
diwali aai hai sab de dilayenge ae yaar
khuda ke fazl se hai aasra diwali ka

makaan lap ke thaliya jo kori rakhwai
jala charag ko koudi wo jald khankai
asal juaari the unme to jaan si aai
khushi se kud uchhal kar pukare o bhai!
shagun pahle karo tum zara diwali ka

shagun ki baazi lagi pahle yaar gande ki
phir us se badh ke lagi teen char gande ki
firi jo aisi tarah baar baar gande ki
to aage lagne lagi phir hazar gande ki
kamal nirkh hai phir to laga diwali ka

kisi ne ghar ki haweli giro rakha haari
jo kuch thi jis mayssar bana banaa haari
kisi ne cheez kisi kisi ki chura chhupa haari
kisi ne gathri padosan ki apni la hari
ye haar jeet ka charcha pada diwali ka

kisi ko daav pe laa-nakki mooth ne maar
kisi ke ghar pe dhara sokhta ne angaara
kisi ko nard ne chopad ke kar diya zara
langoti bandh ke baitha hajaar tak haara
ye shor aa ke macha ja-b-ja diwali ka

kisi ki joru kahe hai pukar ae fadve
bahu ki nougrah bete ke hath ke khadve
jo ghar me aave to sab mil kiye hai sou ghadve
nikal tu yaan se tira kaam yaan nahi bhadwe
khuda ne tujh ko jo shohda diya diwali ka

wo us ke jhhote pakad kar kahe hai marunga
tira jo gahna hai sab taar-taar utarunga
haweli apni to ik daav par mai harunga
ye sab to hara hu khandi tujh bhi harunga
chadha hai mujh ko bhi ab to nasha diwali ka

tujhe khabar nahi khandi ye lat wo pyari ha
kisi jamane me aage hua jo jwari hai
to us ne joru ki nath aur izaar utari hai
izaar kya hai ki zoru talak bhi hari hai
suna ye tu ne nahi mazra diwali ka

jahaaN me ye jo diwali ki sair hoti hai
to zar se hoti hai aur zara bagair hoti hai
jo haare un pe kharabi ki fair hoti hai
aur unme aan ke jin jin ki khair hoti hai
to aade aata hai un ke diya diwali ka

ye baate sach hai n jhuth un ko janiyo yaaro
nasihate hai unhe dil se maniyo yaaro
jo juwari ho n bura us ka maniyo yaaro
"Nazeer" aap bhi jwariya diwali ka
- Nazeer Akbrabadi
loading...

Post a Comment

 
Top