0

कसम उस मौत की, उठती जवानी में जो आती है
उरूसे-नौ को बेवा, माँ को दीवाना बनाती है

जहा के झुटपुटे के वक्त एक ताबूत निकला हो
कसम उस शब की जो पहले-पहल उस घर में आती है

अज़ीज़ो की निगाहे ढूंढती है मरने वाले को
कसम उस सुबह की जो गम का यह मंज़र दिखाती है

कसम साइल के उस अहसास की जब देखकर उसको
सियाही दफअतन कंजूस के माथे पे आती है

कसम उन आंसुओ की माँ की आँखों से जो बहते है
जिगर थामे हुए जब लाश पर बेटे की आती है

कसम उस बेबसी की, अपने शौहर के जनाजे पर
कलेजा थाम कर जब तजा दुल्हन सर झुकाती है

नज़र पड़ते ही एक जी-मर्तबा मेहमां के चेहरे पर
कसम उस शर्म की मुफलिस की आँखों से जो आती है

कि ये दुनिया सरासर ख्वाब और ख्वाबे-परीशां है
खुशी आती नहीं सीने में जब तक सांस आती है - जोश मलीहाबादी
मायने
उरूसे-नौ = नई दुल्हन, ताबूत = अर्थी, मंज़र = दृश्य, साइल = भिखारी, दफअतन = एकाएक, जी-मर्तबा = प्रतिष्ठित, मुफलिस = गरीब, ख्वाबे-परीशां = व्याकुल स्वप्न

Roman

Kasam us maut kee, uthatee jawani me jo aatee hai
uroose-nau ko bevaa, maaN ko deevaanaa banaatee hai

jahaa ke jhutapute ke vakt ek taaboot nikalaa ho
kasam us shab kee jo pahale-pahal us ghar men aatee hai

azeezo kee nigaahe dhoondhatee hai marane vaale ko
kasam us subah kee jo gam kaa yah mnzar dikhaatee hai

kasam saail ke us ahasaas kee jab dekhakar usako
siyaahee dafaatan knjoos ke maathe pe aatee hai

kasam un aansuo kee maan kee aankhon se jo bahate hai
jigar thaame hue jab laash par bete kee aatee hai

kasam us bebasee kee, apane shauhar ke janaaje par
kalejaa thaam kar jab tajaa dulhan sar jhukaatee hai

nazar padate hee ek jee-martabaa mehamaan ke chehare par
kasam us sharm kee mufalis kee aankhon se jo aatee hai

ki ye duniyaa saraasar khvaab aur khvaabe-pareeshaan hai
khushee aatee naheen seene men jab tak saans aatee hai- Josh Malihabadi
loading...

Post a Comment

 
Top