0
उठते ही घर ठीक करेगी
माँ फिर बिस्तर ठीक करेगी

चावल हमें खिला देने को
कंकड़ पत्थर ठीक करेगी

गिन के सिक्के चार दफ़ा में
फिर ख़ुद छप्पर ठीक करेगी

धुंआ धुंआ इस घर को कर के
कितने मच्छर ठीक करेगी

इस ज़िद पे हैं काहिल बेटे
माँ ही खण्डहर ठीक करेगी

सबने छोड़ दिए हैं कपडे
माँ है नौकर ठीक करेगी

नहीं वो देगी गन्दा रहने
लेकर पेपर ठीक करेगी

हमें पता है इन तिनकों से
नाक का बेसर ठीक करेगी

देहरी पर भी जाना हो तो
सर का आंचर ठीक करेगी

हो जितना दुःख फिर भी माँ तो
तुलसी खाकर ठीक करेगी - डॉ. जियाउर रहमान जाफ़री

Roman

uthte hi ghar thik karegi
maa phir bistar thik karegi

chawal hame khila dene ko
kankad patthar thik karegi

geen ke sikke chaar dafa mai
phir khud chhappar thik karegi

dhuaa dhuaa is ghar ko kar ke
kitne macchar thik karegi

is zid pe kahil bete
maa hi khandhar thik karegi

sabne chhod diye ha kapde
maa hai noukar thik karegi

nahi wo degi ganda rahne
lekar paper thik karegi

hame pata hai in tinko se
naak ka besar thik karegi

dehri par bhi jana ho to
sar ka aanchar thik karegi

ho jitna dhukh phir bhi maa to
tulsi khakar thik karegi - Dr. Zia ur Rahman Zafri
.

Post a Comment

 
Top