1
Dil jo deewana nahiN aakhir ko deewana bhi tha  bhoolane par us ko jab aayaa to pahachaanaa bhi tha

दिल जो दीवाना नहीं आखिर को दीवाना भी था
भूलने पर उस को जब आया तो पहचाना भी था

जानिया किस शौक में रिश्ते बिछड़ कर रह गए
काम तो कोई नहीं था पर हमें जाना भी था

अजनबी-सा एक मौसम एक बेमौसम-सी शाम
जब उसे आना नहीं था जब उसे आना भी था

जानिए क्यूँ दिल कि वहशत दरमियां में आ गयी
बस यूँ ही हम को बहकना भी था बहकाना भी था

इक महकता-सा वो लम्हा था कि जैसे इक ख्याल
इक ज़माने तक उसी लम्हे को तडपना भी था - जॉन एलिया

Roman

Dil jo deewana nahiN aakhir ko deewana bhi tha
bhoolane par us ko jab aayaa to pahachaanaa bhi tha

jaaniyaa kis shauk men rishte bichhad kar rah gaye
kaam to koi nahiN tha par hamen jaanaa bhi tha

ajanabee-sa ek mausam ek bemausam-si shaam
jab use aanaa nahiN tha jab use aanaa bhi tha

jaanie kyoon dil ki wahashat daramiyaan men aa gayee
bas yoon hee ham ko bahakanaa bhi tha bahakaanaa bhi tha

ik mahakataa-saa vo lamhaa tha ki jaise ik khyaal
ik zamaane tak usee lamhe ko tadaapanaa bhi tha - Jaun Elia / Jan Elia / Jon eliya

Post a Comment

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 06/01/2019 की बुलेटिन, " सच्चे भारतीय और ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete

 
Top