0
घर की किस्मत जगी घर में आए सजन
ऐसे महके बदन जैसे चंदन का बन

आज धरती पे है स्वर्ग का बाँकपन
अप्सराएँ न क्यूँ गाएँ मंगलाचरण

ज़िंदगी से है हैरान यमराज भी
आज हर दीप अँधेरे पे है ख़ंदा-ज़न

उन के क़दमों से फूल और फुल-वारियाँ
आगमन उन का मधुमास का आगमन

उस को सब कुछ मिला जिस को वो मिल गए
वो हैं बे-आस की आस निर्धन के धन

है दीवाली का त्यौहार जितना शरीफ़
शहर की बिजलियाँ उतनी ही बद-चलन

उन से अच्छे तो माटी के कोरे दिए
जिन से दहलीज़ रौशन है आँगन चमन

कौड़ियाँ दाँव की चित पड़ें चाहे पट
जीत तो उस की है जिस की पड़ जाए बन

है दीवाली-मिलन में ज़रूरी 'नज़ीर'
हाथ मिलने से पहले दिलों का मिलन - नजीर बनारसी

Roman
ghar ki kismat jagi ghar me aaye sajan
aise mahke badan jaise chandan ka ban

aaj dharti pe hai swarg ka baankpan
apsaraye n kyu gaye manglacharan

zindgi se hai hairan yamraj bhi
aaj har deep andhere pe hai khanda-zan

un ke kadmo se phool aur phool wariyan
aagman un ka madhumas ka aagman

us ko sab kuch mila jik ko wo mil gaye
wo hai be-aas ki aas nirdhan ke dhan

hai deewali ka tyouhaar jitna shareef
shahar ki bijliya utni hi bad chalan

un se achche to mati ke kore diye
jin se dahleez roushan hai, aangan chaman

koudiyo daanv ki chit pade chahe pat
jeet to uski hai jis ki padh jaye ban

hai deewali-milan me jaruri "Nazeer"
haath milne se pahle dilo ka milan - "Nazeer Banarasi"
.

Post a Comment

 
Top