0
तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे
प्यार में डूबे हुए खत मैं जलाता कैसे
तेरे हाथों के लिखे खत मैं जलाता कैसे

जिनको दुनिया की निगाहों से छुपाए रखा
जिनको इक उम्र कलेजे से लगाए रखा
दीन जिनको, जिन्हे ईमान बनाए रखा
तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे

जिनका हर लफ़्ज़ मुझे याद था पानी की तरह
याद थे जो मुझको जो पैगामे ज़बानी की तरह
मुझको प्यारे थे जो अनमोल निशानी की तरह
तेरे हाथों के लिखे खत मैं जलाता कैसे

तूने दुनिया की निगाहों से जो बचकर लिखे
सालहा साल मेरे नाम बराबर लिखे
कभी दिन में तो कभी रात को उठकर लिखे
तेरे खुशबू में बसे खत मैं जलाता कैसे

प्यार में डूबे हुए खत मैं जलाता कैसे
तेरे हाथों के लिखे खत मैं जलाता कैसे

तेरे खत मैं आज गंगा में बहा आया हूं
आग बहते हुए पानी में लगा आया हूं
- राजेंद्र नाथ रहबर

यह भी पढ़िए
प्यार का पहला खत लिखने में
वो खत के पुर्जे उड़ा रहा था

Roman

Tere khushboo mai basey khat mai jalaata kaise
Pyar mai doobe hue khat mai jalaata kaise
Tere haathon ke likhe khat main jalaata kaise

Jinko dunia ki nigahon se chupaaye rakha
Jinko ek umra kaleje se lagaaye rakha
Deen jinko jinheN imaan banaaye rakha

Jinka har lafz mujhe yaad hai paani ki tarah
Yaad they mujko jo paighaam-e-zubaani ki tarah
Mujhko pyaare they jo anmol nishani ki tarah

Toone duniya ki nigahon se jo bachkar likhe
Saal-ha-saal mere naam barabar likhe
Kabhi din mai to kabhi raath ko uthkar likhe

Tere khat aaj main Ganga mai bahaa aaya hoon
Aag bahte hue paani mai laga aaya hoon
- Rajendr Nath Rehbar
loading...

Post a Comment

 
Top