3
प्यार का पहला खत लिखने में वक़्त तो लगता है,
नये परिन्दों को उड़ने में वक़्त तो लगता है |

जिस्म की बात नहीं थी उनके दिल तक जाना था,
लम्बी दूरी तय करने में वक़्त तो लगता है |

गाँठ अगर पड़ जाए तो फिर रिश्ते हों या डोरी,
लाख करें कोशिश खुलने में वक़्त तो लगता है |

हमने इलाज-ए-ज़ख़्म-ए-दिल तो ढूँढ़ लिया है,
गहरे ज़ख़्मों को भरने में वक़्त तो लगता है। - हस्तीमल हस्ती

Roman
Pyar ka pahla khat likhne me waqt to lagta hai
naye parindo ko udne me waqt to lagta hai

jism ki baat nahi unke dil tak jana tha
lambi duri tay karne me waqt to lagta hai

gaath agar pad jaye to phir rishte ho ya dori,
laakh kare koshish khulne me waqt to lagta hai

hame ilaj-e-zakhm-e-dil to dhundh liya
gahre jakhmo ko bharne me waqt to lagta hai - Hastimal Hasti
loading...

Post a Comment

  1. सच कहा हर बिगडी चीज़ को संवरने मे वक्त तो लगता है

    ReplyDelete
  2. @वन्दनाजी धन्यवाद टिप्पणी देने के लिए वैसे
    हमने इलाज-ए-जख्म-ए-दिल तो ढूढ लिया है
    गहरे जख्मो को भरने में वक्त तो लगता है
    हस्ती साहब सच्चाई इस ग़ज़ल में कह गए |

    ReplyDelete
  3. गांठ अगर पद जाये तो फिर रिश्ते हो या डोरी
    लाख करे कोशिश खुलने में वक्त तो लगता है .....

    वाह एक दम सही कहा ...वक्त तो लगता है

    ReplyDelete

 
Top