2
suna hai log use aankh bhar ke dekhte hai  so uske shahar me kuch din thahar ke dekhte hai
सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है
सो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है

सुना है बोले तो बातो से फुल झड़ते है
ये बात है तो चलो बात करके देखते है

सुना है उसके लबो से गुलाब जलते है
सो हम बहार पे इल्जाम धरके देखते है

सुना है उसके बदन की तराश ऐसी है
कि फुल अपनी कबाए कुतर के देखते है

रुके तो गर्दिशे उसका तवाफ़ करती है
चले तो उसको ज़माने ठहर के देखते है

किसे नसीब कि बे पैराहन उसे देखे
कभी-कभी दरो दीवार घर के देखते है - अहमद फ़राज़ / Ahmad Faraz
मायने
कबाए=लिबास, तवाफ़=परिक्रमा, पैरहन=वस्त्र

Roman

suna hai log use aankh bhar ke dekhte hai
so uske shahar me kuch din thahar ke dekhte hai

suna hai bole to baato se phool jhadate hai
ye baat hai to chalo baat karke dekhte hai

suna hai uske labo se gulab jalte hai
so ham bahaar pe ilzam dharke dekhte hai

suna hai uske badan ki taraash aisi
ki phool apni kabaye kutar ke dekhte hai

ruke to gardhishe uska tawaaf karti hai
chale to usko zamane thahar ke dekhte hai

kise naseeb ki be-pairahan use dekhe
kabhi-kabhi dar-o-deewar ghar ke dekhte hai - Ahmad Faraz
loading...

Post a Comment

 
Top