0
Bas gaya ho zehan men jaise koii dar aajkal  sab ikatthaa kar rahe hain chhat pe patthar aajkal

बस गया हो ज़हन में जैसे कोई डर आजकल
सब इकट्ठा कर रहे हैं छत पे पत्थर आजकल

शहरभर की नालियाँ गिरती हैं जिस तालाब में
वो समझने लग गया खु़द को समंदर आजकल

फ़ाइलों का ढेर, वेतन में इज़ाफ़ा कुछ नहीं
हाँ, अगर बढ़ता है तो चश्मे का नंबर आजकल

कतरनें अख़बार की पढ़कर चले जाते हैं लोग
शायरी करने लगे मंचों पे हाकर आजकल

उग रही हैं सिर्फ़ नफ़रत की कटीली झाड़ियाँ
भाईचारे की ज़मीं कितनी है बंजर आजकल

‘नाज़’ मुझको हैं अँधेरे इसलिए बेहद अज़ीज़
अपनी परछाईं से लगता है बहुत डर आजकल - कृष्ण कुमार नाज़

Roman

Bas gaya ho zehan men jaise koi dar aajkal
sab ikatthaa kar rahe hain chhat pe patthar aajkal

shaharbhar ki naliyaN girati hain jis taalaab meiN
wo samajhane lag gayaa khud ko samandar aajkal

faailo ka dher, vetan men izafa kuchh nahiN
haan, agar badhta hai to chashme kaa numbar aajkal

kataraneN akhabaar ki padhkar chale jaate hain log
shayari karane lage manchoN pe haakar aajkal

ug rahee hain sirf nafarat ki katili jhaadiyaN
bhaichare ki zameen kitani hai banzar aajkal

‘Naaz’ mujhako haiN andhere isliye behad azeez
apani parachhaai se lagata hai bahut dar aajkal - Krishna Kumar Naaz

Post a Comment

 
Top