0
बुझा है दिल भरी महफ़िल में रौशनी देकर,
मरूँगा भी तो हज़ारों को ज़िन्दगी देकर

क़दम-क़दम पे रहे अपनी आबरू का ख़याल,
गई तो हाथ न आएगी जान भी देकर

बुज़ुर्गवार ने इसके लिए तो कुछ न कहा,
गए हैं मुझको दुआ-ए-सलामती देकर

हमारी तल्ख़-नवाई को मौत आ न सकी,
किसी ने देख लिया हमको ज़हर भी देकर

न रस्मे दोस्ती उठ जाए सारी दुनिया से,
उठा न बज़्म से इल्ज़ामे दुश्मनी देकर

तिरे सिवा कोई क़ीमत चुका नहीं सकता,
लिया है ग़म तिरा दो नयन की ख़ुशी देकर - नज़ीर बनारसी

Roman

bujha hai dil bhari mahfil me roushni dekar
marunga bhi to hajaro ko zindgi dekar

kadam kadam pe rahe apni aabroo ka khyal
gayi to hath n aayegi jaan bhi dekar

bujurgwar ne iske liye to kuch n kaha
gaye hai mujhko duaa-e-salamati dekar

hamari talkh-nawai ko mout aa na saki
kisi ne dekh liya hamko zahar bhi dekar

n rasme dosti uth jaye sari duniya se
utha n bazm se ilzam-e-dushmani dekar

tire diwa koi keemat chuka nahi sakta
liya hai gham tira do nayan ki khushi dekar - Nazeer Banarasi
.

Post a Comment

 
Top