0

सभी पाठको को दीपो के पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए 

दिवाली के दीप जले हैं
यार से मिलने यार चले हैं

चारों जानिब धूम-धड़ाका
छोटे रॉकेट और पटाख़ा

घर में फुल-झड़ियाँ छूटे
मन ही मन में लड्डू फूटे

दीप जले हैं घर आँगन में
उजयारा हो जाए मन में

अपनों की तो बात अलग है
आज तो सारे ग़ैर भले हैं
दिवाली के दीप जले हैं

राम की जय-जय-कार हुई है
रावन की जो हार हुई है

सच्चे का हर बोल है बाला
झूटे का मुँह होगा काला

सच्चाई का डंका बाजे
सच के सर पर सहरा साजे
झूट की लंका ख़ाक बना के

राम अयोध्या लौट चले हैं
दिवाली के दीप जले हैं

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई
मिल कर खाएँ यार मिठाई

भूल के शिकवे और गिले सब
हँसते गाते आज मिले सब

कहने को हर धर्म जुदा है
लेकिन सब का एक ख़ुदा है
इक माटी के पुतले 'हैदर'

इस साँचे में ख़ूब ढले हैं
दिवाली के दीप जले हैं 
- हैदर बयाबानी

Roman

Diwali ke deep jale hai
yaar se milne yaar chale hai
charo jaanib dhoom-dhadaka
chhote rocket uar patakha

ghar me phool-jhadiya chhute
man hi man me laddu phute

deep jale hai ghar aangan me
ujyara ho jaye man me

apno ki to baat alag hai
aaj to saare gair bhale hai
diwali ke deep jale hai

raam ki jai-jai-kaar hui hai
raawan ki jo haar hui hai

sachche ka har bol hai bala
jhute ka munh hoga kala

sachchai ka danka baaje
sach ke sar par sahra saaje
jhut ki lanka khaak bana ke

raam ayodhya lout chale hai
diwali ke deep jale hai

hindu muslim sikh isai
mil kar khaye yaar mithai

bhool ke shikwe aur gile sab
hanste gaate aaj mile sab

kahne ko har dharm juda hai
lekin sab ka ek khuda hai
ik mati ke putle "Haidar"

is saanche me khoob dhale hai
diwali ke deep jale hai 
- Haidar Bayabaani
loading...

Post a Comment

 
Top