0
इस दास्ताँ को फिर से नया कोई मोड़ दे
टूटा हुआ हूँ पहले से कुछ और तोड़ दे

अब देके ज़ख्म मेरे सितमगर खड़ा है क्यों
मिर्ची भुरक दे ज़ख्म पे नीबू निचोड़ दे

बर्बाद हम हुए कि तेरे मन की हो गई
अब जा के नारियल किसी मन्दिर में फोड़ दे

उकता गया क़फ़स में है सय्याद अब तो दिल
ऐसा न कर कि तू मेरी गर्दन मरोड़ दे

तुझको भी पत्थरों से रहम की उमीद है
नाहक़ पटक पटक के न सर अपना फोड़ दे

क़ातिल ही ऐ ‘अकेला’ अचानक पलट गया
मैंने कहाँ कहा था मुझे ज़िन्दा छोड़ दे - वीरेन्द्र खरे 'अकेला'

Roman

is dastaaN ko phir se naya koi mod de
tuta hua hun pahle se kuch aur tod de

ab deke zakhm mere sitamgar khada hai kyo
mirchi bhurak de, zakhm pe nimbu nichod de

barbaad ham hue ki tere man ki ho gayi
ab ja ke nariyal kisi mandir me phod de

ukta gaya kafas me hai sayyad ab to dil
aisa n kar ki tu meri gardan marod de

tujhko bhi pattharo se raham ki ummid hai
nahak patak patak ke n sar apna phod de

qatil hi ae "Akela" achanak palat gaya
maine kahaN kaha tha mujhe zinda chhod de - Virendra Khare "Akela"


परिचय

विरेन्द्र खरे का जन्म 18 अगस्त 1968 को छतरपुर (म.प्र.) के किशनगढ़ ग्राम में हुआ आपके पिता स्व० श्री पुरूषोत्तम दास खरे एवं माता श्रीमती कमला देवी खरे है | आपने अपनी शिक्षा एम०ए० (इतिहास), बी०एड० में पूरी की | आप प्रमुख रूप से ग़ज़ल, गीत, कविता, व्यंग्य-लेख, कहानी, समीक्षा आलेख विधाओ में लिखते है | आप अपनी रचनाओ में उपनाम "अकेला" उपयोग करते है |
Virendra Khare Akela

आपकी तीन किताबे प्रकाशित हो चुकी है जिनमे
1. शेष बची चौथाई रात 1999 (ग़ज़ल संग्रह),
2. सुबह की दस्तक 2006 (ग़ज़ल-गीत-कविता),
3. अंगारों पर शबनम 2012(ग़ज़ल संग्रह) शामिल है |

आपकी कई रचनाये वागर्थ, कथादेश, वसुधा, शुक्रवार सहित विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई है एवं लगभग 22 वर्षों से आकाशवाणी छतरपुर से रचनाओं का निरंतर प्रसारण होता आ रहा है | आपकी कई रचनाये आकाशवाणी द्वारा गायन हेतु भी ली गयी है |

आपके ग़ज़ल-संग्रह 'शेष बची चौथाई रात' पर अभियान जबलपुर द्वारा 'हिन्दी भूषण' अलंकरण दिया गया | इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन एवं बुंदेलखंड हिंदी साहित्य-संस्कृति मंच सागर [म.प्र.] द्वारा कपूर चंद वैसाखिया 'तहलका', अ०भा० साहित्य संगम, उदयपुर द्वारा काव्य कृति ‘सुबह की दस्तक’ पर राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान के अन्तर्गत 'काव्य-कौस्तुभ' सम्मान तथा लायन्स क्लब द्वारा ‘छतरपुर गौरव’ सम्मान मिला |

वर्तमान में आप अध्यापन कार्य कर रहे है | आपसे निम्न पते व नंबर पर संपर्क किया जा सकता है :

सम्पर्क : छत्रसाल नगर के पीछे, पन्ना रोड, छतरपुर (म.प्र.)पिन-471001
मोबाइल फ़ोन नम्बर-09981585601
Email-virendraakelachh@gmail.com
loading...

Post a Comment

 
Top