0


बेसबब कोई गिरफ़्तार भी हो सकता है
ये तमाशा सर-ए-बाज़ार भी हो सकता है

पूछना ज़ुर्म नहीं, इसलिए पूछा कीजे
सामने वाला समझदार भी हो सकता है

आँधियाँ ख़ूब चलीं, ज़ोर का तूफ़ाँ आया
शहर का शहर गुनहगार भी हो सकता है

साथियो! और भी रफ़्तार-ए-सफ़र तेज़ करो
मरहला आख़री, दुश्वार भी हो सकता है

हो चुके सारे गवाहों के बयानात ग़लत
कोई क़ातिल का तरफ़दार भी हो सकता है

अपने दुश्मन से कभी तर्क-ए-तआल्लुक न करो
कल तुम्हें उस से सरोकार भी हो सकता है - नूर मुनीरी
मायने
मरहला=मोड़,मुक़ाम

Roman

Besabab koi giraftaar bhi ho sakataa hai
ye tamaashaa sar-e-baazaar bhi ho sakataa hai

poochhanaa zurm nahiN, isaliye poochhaa keeje
saamane vaalaa samajhadaar bhi ho sakataa hai

aandhiyaan khaoob chaleen, zaor kaa toophaan aayaa
shahar kaa shahar gunahagaar bhi ho sakataa hai

saathiyo! Aur bhi rafataar-e-safar tez karo
marahalaa aakharee, dushwaar bhi ho sakataa hai

ho chuke saare gawaahoN ke bayaanaat galat
koii qaatil kaa tarafadaar bhi ho sakataa hai

apne dushman se kabhi tark-e-ta_aalluk n karo
kal tumhen us se sarokaar bhi ho sakataa hai - Noor Muneeri
loading...

Post a Comment

 
Top