0

पुरुषोत्तम अब्बी आज़र साहब की यह ग़ज़ल मखदूम मोहिउद्दीन साहब की " आपकी याद आती रही " ग़ज़ल की बहर पर लिखी गई है इस बहर पर फैज़ ने भी मखदूम की याद में नाम से ग़ज़ल लिखी है

आपकी याद आती रही रात भर
नींद नखरे दिखाती रही रात भर

अक्स दीपक का दरिया में पड़ता रहा
रौशनी झिलमिलाती रही रात भर

चाँद उतरा हो आँगन में जैसे मेरे
शब निगाहों को भाती रही रात भर

मैने तुझको भुलया तो दिल से मगर
याद सीना जलाती रही रात भर

वो मिला ही कहां और चला भी गया
बस हवा दर हिलाती रही रात भर - पुरूषोत्तम अब्बी "आज़र"

Roman

Aapki yaad aati rahi raat bhar
neend nakhare dikhati rahi raat bhar

aks deepak ka dariyaa men padataa raha
roshani jhilamilaati rahi raat bhar

chaand utaraa ho aangan men jaise mere
shab nigaahon ko bhaati rahi raat bhar

maine tujhako bhulayaa to dil se magar
yaad seenaa jalaati rahi raat bhar

vo milaa hee kahaan aur chalaa bhee gaya
bas havaa dar hilaati rahi raat bhar - Purshottam Abbi "Azar"
loading...

Post a Comment

 
Top