0


ना मै सोना, ना मै मोती, ना मै कोहेनूर हूँ  कौन थामे हाथ मेरा, मै तो इक मजदूर हूँ

ना मै सोना, ना मै मोती, ना मै कोहेनूर हूँ
कौन थामे हाथ मेरा, मै तो इक मजदूर हूँ

बस गया है जेहन-ओ-दिल में यूँ मिरे तेरा गुरूर
देखने वाले समझते है कि मै मगरूर हूँ

ये करम है तेरा मुझ पर या कि है तेरा सितम
तेरा होकर भी मै तेरी रहमतों से दूर हूँ

तेरे ही घर की तरफ उठता है मेरा हर कदम
क्या कहूँ, कैसे बताऊ किस कदर मजबूर हूँ

खो गयी पहचान मेरी जब से मै उनसे मिला
आजकल दानिश मै उनके नाम से मशहूर हूँ - अबरार दानिश

Roman

na mai sona, na mai moti, na mai kohinoor hun
koun thame hath mera, mai to ik majdoor hun

bas gaya hai zehan-o-dil me yun mire tera guroor
dekhne wale samjhate hai ki mai magroor hun

ye karam hai tera mujh par tha ya ki tera sitam
tera hokar bhi mai teri rahmato se door hun

tere hi ghar ki taraf uthta hai mera har kadam
kya kahu, kaise batau kis kadar majboor hun

kho gayi pahchan meri jab se mai unse mila
aajkal danish mai unke naam se mashhoor hun - Abrar Danish
loading...

Post a Comment

 
Top