0
jaan nisar akhtar nazm

हवा जब मुंह अँधेरे प्रीत की बंसी बजाती है
कोई राधा किसी पनघट के ऊपर गुनगुनाती है
मुझे इक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है

उफ़क पर आसमान झुककर ज़मीं को प्यार करता है
ये मंज़र एक सोई याद को बेदार करता है
मुझे एक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है

मिलाकर मुंह से मुंह साहिल से जब मौजे गुजरती है
मेरे सीने में मुद्दत की दबी चोंटे उभरती है
मुझे एक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है

चमकता एक तारा चाँद के पहलू में चलता है
मेरा सोया हुआ दिल एक करवट सी बदलता है
मुझे एक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है

ज़मीं जब डूबते सूरज की खातिर आह भरती है
किरन जब आसमां को इक विदाई प्यार करती है
मुझे एक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है

पिघलती शम्मा पर गिरते है जब ताको में परवाने
सुनाता है कोई जब दूसरों के दिल के अफसाने
मुझे एक बार फिर अपनी मोहब्बत याद आती है - जाँ निसार अख्तर/ जाँनिसार अख्तर

मायने
उफक़ पर = आसमान पर/क्षितिज पर, बेदार = जगाना,

Roman

hawa jab munh-andhere preet ki bansi bajati hai,
koi radha kisi panghat ke upar gungunati hai,
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai.

ufaq par aasmaan jhukkar zameeN ko pyar karta hai
ye manzar ek soi yaad ko bedaar karta hai
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai.

milakar munh se munh sahil se jab mouje gujarati hai
mere seene me muddat ki dabi chote ubharati hai
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai.

chamkata ek tara chand ke pahloo me chalta hai
mera soya hua dil ek karwat si badlata hai
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai.

zameeN jab dubte suraj ki khatir aah bharti hai
kirab jab aasmaaN ko ik vidai pyar karti hai
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai.

pighlati shamma par girte hai jab taaqo me parwane
sunata hai koi jab dusro ke dil ke afsane
mujhe ik baar phir apni mohbbat yaad aati hai. - Jaan Nisar Akhtar / Janisar Akhtar
loading...

Post a Comment

 
Top