0


शराफत हम से कहती है, शराफत से जिया जाए,
कोई हद भी तो होती है, कहाँ तक चुप रहा जाए।

ग़ज़ल से गुफ़्तगू हमने इशारों में बहुत कर ली,
मगर अब दिल ये कहता है कि कुछ खुल कर कहा जाये।

अभी जिंदा है हम साँसे भी अपनी चल रहीं हैं न,
तो फिर क्यों ना बुरे दिन को भी अच्छा दिन कहा जाये

हमारे तंग हाथों की दुआएं कौन सुनता है,
दुआ कीजे कि अब तो अर्श पर अपनी दुआ जाये।

हम इस मकसद से दिन में जाने कितने ट्वीट करते हैं,
किसी अखबार में शायद हमारा नाम आ जाये।

अमल हम खुद नहीं करते मगर औरों से कहते हैं,
हमारा मशविरा शायद तुम्हारे काम आ जाये।

हमारे घर का आलम भी सिनेमाघर सरीखा है,
तो क्या शमशान में जाकर जाकर पढ़ा जाये, लिखा जाए। - अशोक मिजाज़

Roman

sharafat hamse kahti hai, sharafat se jiya jaye
koi had bhi to hoti hai, kaha tak chup raha jaye

ghazal se guftgu hamne isharo me bahut kar li
magar ab dil ye kahta hai ki kuch khul kar kaha jaye

abhi zinda hai ham saanse bhi apni chal rahi hai n
to phir kyo n bure din ko bhi achcha din kaha jaye

hamare tang haatho ki duaaye koun sunta hau
duaa keeje ki ab to arsh par apni duaa jaye

ham is maksad se din me jane kitne tweet karte hai
kisi akhbaar me shayad hamara naam aa jaye

amal ham khud nahi karte magar auro se kahte hai
hamara mashwira shayad tumhare kaam aa jaye

hamare ghar ka aalam bhi cinemaghar sarikha hai
to kya shamshaan me jakar padha jaye, likha jaye - - Ashok Mizaj
loading...

Post a Comment

 
Top