1
kabhi mom ban ke pighal gya  kabhi girate girte sambhal gya

कभी मोम बन के पिघल गया
कभी गिरते गिरते संभल गया

वो बन के लम्हा गुरेज का
मेरे पास से निकल गया

उसे रोकता भी तो किस तरह
कि वो शख्स इतना अजीब था

कभी तड़प उठा मेरी आह से
कभी अश्क से न पिघल सका

सर-ए-राह मिला वो अगर कभी
तो नज़र चुरा के गुज़र गया

वो उतर गया मेरी आँख से
मेरे दिल से क्यों न उतर सका

वो चला गया जहां छोड़ के
मैं वहा से फिर न पलट सका

वो संभल गया था 'फ़राज़' मगर
मै बिखर के फिर न सिमट सका- अहमद फ़राज़ / Ahmad Faraz

Roman
kabhi mom ban ke pighal gya
kabhi girate girte sambhal gya

wo ban ke lamha gurez ka
mere paas se nikal gya

use rokta bhi to kis tarah
ki wo shakhs itna ajeeb tha

kabhi tadap utha meri aah se
kabhi ashq se n pighal saka

sar-e-raah mila wo agar kabhi
to nazar chura ke gujar gya

wo uatar gya meri aankh se
mere dil se kyoN n utar saka

wo chala gaya jaha chhod ke
mai waha se phir n palat saka

wo sambhal gaya tha 'Faraz' magar
mai bikhar ke phir n simat saka - Ahmad Faraz

Post a Comment

  1. इन्हें तो कम ही पढ़ा है, अच्छा संकलन , लगे रहिये .. !

    ReplyDelete

 
Top