2
Deepawali mubarak, diwali ke deep jale
नई हुई फिर रस्म पुरानी दिवाली के दीप जले
शाम सुहानी रात सुहानी दिवाली के दीप जले

धरती का रस डोल रहा है दूर-दूर तक खेतों के
लहराये वो आंचल धानी दिवाली के दीप जले

नर्म लबों ने ज़बानें खोलीं फिर दुनिया से कहन को
बेवतनों की राम कहानी दिवाली के दीप जले

लाखों-लाखों दीपशिखाएं देती हैं चुपचाप आवाज़ें
लाख फ़साने एक कहानी दिवाली के दीप जले

निर्धन घरवालियां करेंगी आज लक्ष्मी की पूजा
यह उत्सव बेवा की कहानी दिवाली के दीप जले

लाखों आंसू में डूबा हुआ खुशहाली का त्योहार
कहता है दुःखभरी कहानी दिवाली के दीप जले

कितनी मंहगी हैं सब चीज़ें कितने सस्ते हैं आंसू
उफ़ ये गरानी ये अरजानी दिवाली के दीप जले

मेरे अंधेरे सूने दिल का ऐसे में कुछ हाल न पूछो
आज सखी दुनिया दीवानी दिवाली के दीप जले

तुझे खबर है आज रात को नूर की लरज़ा मौजों में
चोट उभर आई है पुरानी दिवाली के दीप जले

जलते चराग़ों में सज उठती भूखे-नंगे भारत की
ये दुनिया जानी-पहचानी दिवाली के दीप जले

भारत की किस्मत सोती है झिलमिल-झिलमिल आंसुओं की
नील गगन ने चादर तानी दिवाली के दीप जले

देख रही हूं सीने में मैं दाग़े जिगर के चिराग लिये
रात की इस गंगा की रवानी दिवाली के दीप जले

जलते दीप रात के दिल में घाव लगाते जाते हैं
शब का चेहरा है नूरानी दिवाली के दीप जले

जुग-जुग से इस दुःखी देश में बन जाता है हर त्योहार
रंजोख़ुशी की खींचा-तानी दिवाली के दीप जले

रात गये जब इक-इक करके जलते दीये दम तोड़ेंगे
चमकेगी तेरे ग़म की निशानी दिवाली के दीप जले

जलते दीयों ने मचा रखा है आज की रात ऐसा अंधेर
चमक उठी दिल की वीरानी दिवाली के दीप जले

कितनी उमंगों का सीने में वक़्त ने पत्ता काट दिया
हाय ज़माने हाय जवानी दिवाली के दीप जले

लाखों चराग़ों से सुनकर भी आह ये रात अमावस की
तूने पराई पीर न जानी दिवाली के दीप जले

लाखों नयन-दीप जलते हैं तेरे मनाने को इस रात
ऐ किस्मत की रूठी रानी दिवाली के दीप जले

ख़ुशहाली है शर्ते ज़िंदगी फिर क्यों दुनिया कहती है
धन-दौलत है आनी-जानी दिवाली के दीप जले

बरस-बरस के दिन भी कोई अशुभ बात करता है सखी
आंखों ने मेरी एक न मानी दिवाली के दीप जले

छेड़ के साज़े निशाते चिराग़ां आज फ़िराक़ सुनाता है
ग़म की कथा ख़ुशी की ज़बानी दिवाली के दीप जले - फ़िराक गोरखपुरी

Roman


nai hui fir rasm purani diwali ke deep jale
sham suhani rat suhani diwali ke deep jale

dharti ka ras dol raha hai door-door tak kheo ke
lahraye wo aanchal dhani diwali ke deep jale

narm labo ne jabane kholi fir duniya se kahan ko
bewatno ki raam kahani diwali ke deep jale

lakho-lakho deepshikhae deti hai chupchap aawaze
laakh fasane ek kahani diwali ke deep jale

nirdhan gharwaliya karegi aaj laxmi ki pooja
yah utsav beva ki kahani diwali ke deep jale

lakho aansu me duba hua khushhali ka tyohar
kahta hai dukh bhari kahani diwali ke deep jale

kitni mahangi hai sab cheeje kitne saste hai aansu
uf ye garani ye arjani diwali ke deep jale

mere andhere sune dil ka aise me kuch haal n pucho
aaj sakhi duniya deewani deewali ke deep jale

tujhe khabar hai aaj raat ko noor ki laraza moujo me
chot ubhar aai hai purani deewali ke deep jale

jalte charago me saj uthti bhukhe nange bharat ki
ye duniya jani-pahchani deewali ke deep jale

bharat ki kismat soti hai jhilmil-jhilmil aansuo ki
neel gagan ne chadar tani deewali ke deep jale

dekh rahi hu seene me daage jigar ke chirag liye
raat ki is ganga ki rawani deewali ke deep jale

jalte deep raat ke dil me ghanv lagate jate hai
shab ka chehra hai nurani deewali ke deep jale

jug-jug se is dukhi desh me ban jata hai tyohar
ranjo-khushi ki khincha-tani deewali ke deep jale

raat gaye jab ik-ik kakre jalte diye dam todenge
chamkegi tere gam ki nishani deewali ke deep jale

jalte diyo ne macha rakha hai aaj ki raat aisa andher
chamak uthi dil ki veerani diwali ke deep jale

kitni umango ka seene me waqt ne patta kaat diya
hay jamane haay jawani deewali ke deep jale

lakho charago se sunkar bhi aah ye raat amawas ki
tune parai peer n jaani deewali ke deep jale

lakho nayan-deep jalte hai tere manae ko is raat
ae kismat ki ruthi raani diwali ke deep jale

khushhali hai sharte jindgi fir kyo duniya kahti hai
dhan-doulat hai aani-jani diwali ke deep jale

baras-baras ke din bhi koi ashubh baat karta hai sakhi
aankho ne meri ek n mani diwali ke deep jale

ched ke saje nishate chiraga aaj firaq sunata hai
gham ki katha khushi ki jabani diwali ke deep jale - Firaq Gorakhpuri

Post a Comment Blogger

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "ब्लॉग बुलेटिन का दिवाली विशेषांक“ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिवम जी आपको भी दीपावली दीपो के पर्व की हार्दिक शुभकामनाए । आशा है आप कुशल-मंगल होंगे । आपका बहुत-बहुत धन्यवाद इसे अपने ब्लाग बुलेटिन में शामिल करने के लिए ।

      Delete

 
Top