0
meri duniya ke tamam bachche - adnan kafeel darwesh

वो जमा होंगे एक दिन और खेलेंगे एक साथ मिलकर
वो साफ़-सुथरी दीवारों पर
पेंसिल की नोक रगड़ेंगे
वो कुत्तों से बतियाएँगे
और बकरियों से
और हरे टिड्डों से
और चीटियों से भी..

वो दौड़ेंगे बेतहाशा
हवा और धूप की मुसलसल निगरानी में
और धरती धीरे-धीरे
और फैलती चली जाएगी
उनके पैरों के पास..

देखना !
वो तुम्हारी टैंकों में बालू भर देंगे
और तुम्हारी बन्दूकों को
मिट्टी में गहरा दबा देंगे
वो सड़कों पर गड्ढे खोदेंगे और पानी भर देंगे
और पानियों में छपा-छप लोटेंगे...

वो प्यार करेंगे एक दिन उन सबसे
जिससे तुमने उन्हें नफ़रत करना सिखाया है
वो तुम्हारी दीवारों में
छेद कर देंगे एक दिन
और आर-पार देखने की कोशिश करेंगे
वो सहसा चीख़ेंगे !
और कहेंगे —
“देखो ! उस पार भी मौसम हमारे यहाँ जैसा ही है”
वो हवा और धूप को अपने गालों के गिर्द
महसूस करना चाहेंगे
और तुम उस दिन उन्हें नहीं रोक पाओगे !

एक दिन तुम्हारे महफ़ूज़ घरों से बच्चे बाहर निकल आएँगे
और पेड़ों पे घोंसले बनाएँगे
उन्हें गिलहरियाँ काफ़ी पसन्द हैं
वो उनके साथ बड़ा होना चाहेंगे..

तुम देखोगे जब वो हर चीज़ उलट-पुलट देंगे
उसे और सुन्दर बनाने के लिए..

एक दिन मेरी दुनिया के तमाम बच्चे
चीटियों, कीटों
नदियों, पहाड़ों, समुद्रों
और तमाम वनस्पतियों के साथ मिलकर धावा बोलेंगे
और तुम्हारी बनाई हर चीज़ को
खिलौना बना देंगे.. - अदनान कफील दरवेश

Calligraphy by Ashok Dubey (Roopankan ) रूपांकन 

Roman

wo jamaa honge ek din aur khelenge ek saath milakar
wo saaf-suthri deewaron par
pencil ki nok ragadenge
wo kutton se batiyaaenge
aur bakariyon se
aur hare tiddo se
aur cheetiyon se bhee..

wo dodenge betahaashaa
hawaa aur dhoop kee musalasal nigaraani men
aur dharati dheere-dheere
aur failati chali jayegi
unake pairon ke paas..


Dekhanaa !

wo tumhaari tanko men baaloo bhar denge
aur tumhaari bandookon ko
mittee men gaharaa dabaa denge
wo sadkon par gadde khodenge aur pani bhar denge
aur paaniyoN men chhapaa-chhap lotenge...

wo pyaar karenge ek din un sabase
jisase tumane unhe nafrat karana sikhaayaa hai
wo tumhaari deewaro men
chhed kar denge ek din
aur aar-paar dekhane ki koshish karenge
wo sahasaa cheekhenge !
Aur kahenge —
“dekho ! Us paar bhee mausam hamaare yahaan jaisaa hi hai”
wo hawa aur dhoop ko apane gaalon ke gird
mahasoos karanaa chaahenge
aur tum us din unhen nahi rok paaoge !

Ek din tumhaare mahfooz gharon se bachche baahar nikal aaenge
aur pedoN pe ghonsale banaayenge
unhen gilahariyaan kafi pasand hain
wo unake saath badaa honaa chaahenge..

Tum dekhoge jab wo har cheeza ulat-pulat denge
use aur sundar banaane ke liye..

Ek din meri duniyaa ke tamaam bachche
cheetiyon, kitoN
nadiyoN, pahaadoN, samudroN
aur tamaam vanaspatiyoN ke saath milakar dhaawaa bolenge
aur tumhaaree banaaii har cheez ko
khilona bana denge.. - Adnan Kafeel Darwesh
loading...

Post a Comment

 
Top