0
zubaaN ki, jaat ki, n mazhab ki baat kariye

जुबां की, जात की, न मज़हब की बात करिये,
जो करनी है सियासत, तो सब की बात करिये...

तुम पढ़े लिखे हो मियाँ, तुम्ही जानों सो खुदा,
हम अनपढो से बस, एक रब की बात करिये...

ख्वाब सब के है एक जैसे, तो क्यों न ऐ संसद,
इसकी उसकी नहीं, सवा अरब की बात करिये...

भूख है, महंगाई है, फिर तरक्की के दावे क्यों,
इधर-उधर की नहीं, हमसे मतलब की बात करिये...

फर्जी वायदे, झूठी बाते, अब जो कहे चुनाव में,
हो चुकी है मुंह से, जूतों से अब की बात करिये...

अगड़े-पिछड़े, मंदिर-मस्जिद, है तमाशे पुराने,
अब सर्कस में किसी और करतब की बात करिये... - अरमान खान

Roman

zubaaN ki, jaat ki, n mazhab ki baat kariye
jo karni hai siyasat, to sab ki baat kariye

tum padhe-likhe ho miyaN, tumhi jano so khuda
ham anpadho e bas, ek rab ki baat kariye

khwab sab ke hai ek jaise, to kyo n ae sansad
iski uski nahi, sawa arab ki baat kariye

bhukh hai, mahangai hai phir taraqqi ke daawe kyoN
idhar-udhar ki nahi, hamse matlab ki baat kariye

farzi wayade, jhuti bate, ab jo kahe chunav me
ho chuki hai munh se, juto se ab ki baat kariye

agade-pichhde, mandir-masjid, hai tamashe purane
ab circus me kisi aur kartab ki baat kariye - Armaan Khan

Post a Comment

 
Top