0
प्यारे चाँद चमकने वाले, दुनिया भर को तकने वाले
सब के सर पर तेरा डेरा, सब से ऊँचा घर है तेरा

तू जब अपनी खास शान से, नीले-नीले आसमान से
दूर उभरता दिया दिखाई, बोल उठी झट बुढिया माई

'बेटा तेरा मामू आया" | मै कहता हूँ मामू कैसा
सब आते है यह नहीं आता, इंजन गाड़ी यह नहीं लाता

यह लो मेरी गेंद उछल कर, जा पहुची है तारों के घर
हां ऐ चाँद अब नीचे आना ! दूध मलाई माखन खाना

मेरे दिल का टुकड़ा बन जा ! रूठा है चुपके से मन जा
मेरी इन आँखों में रहना ! कुछ भी करना, कुछ भी कहना - खज़ानचंद वसीम

Roman

pyare chaand chamkane wale, duniya bhar ko takne wale
sab ke sar par tera dera, sab se uncha ghar hai tera

tu jab apni khas shaan se, neele-neele aasmaan se
door ubharata diya dikhai, bol uthi jhat budhiya maai

"beta tera maamu aaya, mai kahta hun mamu kaisa
sab aate hai yah nahi aata, engine gadi yah nahi lata

yah lo meri gend uchhal kar, ja pahuchi hai taaro ke ghar
haa ae chaand ab neeche aana! dudh malaai maakhan khana

mere dil ka tukda ban ja! rutha hai chupke se man ja
meri in aankho me rahna ! kuch bhi karna, kuch bhi kahna - Khazanchand Waseem
loading...

Post a Comment

 
Top