0

उनके हाथो से चरणामृत पी,
सदियों तक अपना बनाना चाहती हूँ |
भाव-सागर में भटक ना जाऊं कही,
अपने जीवन का मांझी बनाना चाहती हूँ

ऐ करवा माँ मुझे वरदान दे सती-सा
मै उनको अमर बनाना चाहती हूँ
ऐ माँ मुझे ताकत दे तलवार-सी
उनके हर कष्ट काट गिराना चाहती हूँ

हाथो में मेहंदी, मांग में सिंदूर,
लबो पे लाली, पिया के नाम की
ऐ चाँद तू ज़रा ज़ल्दी आना
नहीं देखी जाती मुझसे बैचैनी मेरी जान की

वो मेरे गले का हार, मेरी पायल की झंकार है
भूख से व्याकुल नहीं, न ही पानी का इंतज़ार है
लंबी उम्र का वर मेरे वर को दे जाना
ऐ करवा चौथ के चाँद तुझसे यही एक पुकार है - रमेश देव सिंहमार

Roman

unke haatho se charnamrit pi
sadiyo tak apna banana chahti hun
bhav-sagar me bhatak naa jau kahi
apne jeevan ka manjhi banana chahti hun

ae karwa chouth maa mujhe vardaan de sati-sa
mai unko amar banana chahati hun
ae maa mujhe takat de talvaar si
unke har kashth kaat girana chahti hun

haatho me mehnadi, mang me sindur
labo pe laali, piya ke naam ki
ae chaand zara jaldi aana
nahi dekhi jati mujhse baichaini meri jaan ki

wo mere gale ka haar, meri paayal ki jhankar hai
bhookh se vyakul nahi, n hi paani ka intzaar hai
lambi umra ka var mere var ko de jana
ae karwa chouth ke chaand tujhse yahi ek pukaar hai - Ramesh dev Singhmaar
.

Post a Comment

 
Top