0
mod pe dekha hai wah budha sa ped kabhi / Mod pe dekhaa hai vah budha-saa ek ped kabhee
मोड़ पे देखा है वह बुढा-सा एक पेड़ कभी ?
मेरा वाकिफ है, बहुत सालो से मै उसे जानता हू

जब मै छोटा था तो एक आम उड़ने के लिए
परली दीवार से कंधो पे चढ़ा था उसके
जाने दुखती हुई किस शाख से जा पाव लगा
धाड़ से फेक दिया था मुझे नीचे उसने
मैंने खुन्नस में बहुत फेके थे पत्थर उस पर

मेरी शादी पे मुझे याद है शाखे देकर
मेरी वेदी का हवन गर्म किया था उसने

और जब हामला थी 'बीबा' तो दौपहर में हर दिन
मेरी बीबी कि तरफ कैरिया फैकी थी इसी ने

वक़्त के साथ सभी फुल, सभी पत्ते गए
तब भी जल जाता था जब मुन्ने से कहती 'बीबा'
'हा, उसी पेड़ से आया है तू, पेड़ का फल है'
अब भी जल जाता हू, जब मोड़ गुजरते में कभी
खासकर कहता है,'क्यों सर के सभी बाल गए?'

सुबह से काट रहे है वह कमेटी वाले
मोड़ तक जाने कि हिम्मत नहीं होती मुझको - गुलज़ार

Roman

Mod pe dekhaa hai vah budha-saa ek ped kabhee ?
Mera waakif hai, bahut saalo se mai use janata hoo

jab mai chhota tha to ek aam udane ke lie
paralee deewar se kandho pe chadha tha uske
jaane dukhati hui kis shaakh se jaa paav lagaa
dhaad se fek diyaa tha mujhe neeche usane
mainne khunnas men bahut feke the patthar us par

meri shadi pe mujhe yaad hai shaakhe dekar
meri vedi ka havan garm kiya tha usane

aur jab haamalaa thi 'beebaa' to daupahar men har din
meree beebee ki taraf kairiyaa faiki thi isi ne

waqat ke saath sabhi fal, sabhi patte gaye
tab bhi jal jaataa tha jab munne se kahti 'beebaa'
haa, usi ped se aayaa hai tu, ped ka fal hai'
ab bhi jal jaataa hooN, jab mod gujarate men kabhi
khasakar kahta hai,'kyon sar ke sabhee baal gaye?'

subah se kaat rahe hai wah committee wale
mod tak jaane ki himmat nahiN hoti mujhako -Gulzar
loading...

Post a Comment

 
Top