0
सज्जाद ज़हीर साहब के जन्मदिवस के मौके पर उनकी यह नज़्म पेश है :

कभी कभी बेहद डर लगता है
कि दोस्ती के सब रुपहले रिश्ते
प्यार के सारे सुनहरे बंधन
सूखी टहनियों की तरह
चटख़ कर टूट न जाएँ
आँखें खुलें, बंद हों देखें
लेकिन बातें करना छोड़ दें
हाथ काम करें
उँगलियाँ दुनिया भर के क़ज़िए लिक्खें
मगर फूल जैसे बच्चों के
डगमगाते छोटे छोटे पैरों को
सहारा देना भूल जाएँ
और सुहानी शबनमी रातों में
जब रौशनियाँ गुल हो जाएँ
तारे मोतिया चमेली की तरह महकें
प्रीत की रीत
निभाई न जाए
दिलों में कठोरता घर कर ले
मन के चंचल सोते सूख जाएँ
यही मौत है!
उस दूसरी से
बहुत ज़ियादा बुरी
जिस पर सब आँसू बहाते हैं
अर्थी उठती है
चिता सुलगती है
क़ब्रों पर फूल चढ़ाए जाते हैं
चराग़ जलते हैं
लेकिन ये, ये तो
तन्हाई के भयानक मक़बरे हैं
दाइमी क़ैद है
जिस के गोल गुम्बद से
अपनी चीख़ों की भी
बाज़-गश्त नहीं आती
कभी कभी बेहद डर लगता है - सज्जाद ज़हीर

Roman

kabhi kabhi behad dar lagta hai
ki dosti ke sab ruphale rishte
pyar ke sare sunhare bandhan
sukhi tahniyo ki tarah
chatakh kar tut n jaye
aankhe khule, band ho dekhe
lekin bate karna chhod de
hath kaam kare
ungliya duniya bhar ke qaziye likhe
magar phool jaise bachcho ke
dagmagate pairo ko
sahara dena bhool jaye
aur suhani shabnami rato me
jab roshniya gul ho haye
tare motiya chameli ki tarah mahke
preet ki reet
nibhai n jaye
dilo me kathorata ghar kar le
man ke chanchal sote sukh jaye
yahi mout hai !
us dusri se
ahut jayada buri
jis par sab aansu bahate hai
arthi uthti hai
chita sulgati hai
kabro par phool chadhaye jate hai
charag jalte hai
lekin ye, ye to
tanhai ke bhayanak makbare hai
daiimi kaid hai
jis ke gol gumbad se
apni cheekhe ki bhi
baaz-gasht nahi aati
kabhi-kabhi behad dar lagta hai - Sajjad Zaheer

Post a Comment

 
Top