0
Aleena Itrat
सारे मौसम बदल गए शायद
और हम भी सँभल गए शायद

झील को कर के माहताब सुपुर्द

अक्स पा कर बहल गए शायद

एक ठहराव आ गया कैसा
ज़ाविए ही बदल गए शायद

अपनी लौ में तपा के हम ख़ुद को
मोम बन कर पिघल गए शायद

काँपती लौ क़रार पाने लगी
झोंके आ कर निकल गए शायद

हम हवा से बचा रहे थे जिन्हें
उन चराग़ों से जल गए शायद

अब के बरसात में भी दिल ख़ुश है
हिज्र के ख़ौफ़ टल गए शायद

साफ़ होने लगे सभी मंज़र
अश्क आँखों से ढल गए शायद

बारिश-ए-संग जैसे बारिश-ए-गुल
सारे पत्थर पिघल गए शायद

वो 'अलीना' बदल गया था बहुत
इस लिए हम सँभल गए शायद - अलीना इतरत

Roman

sare mousam badal gaye shayad
aur hum bhi sambhal gaye shaayd

jheel ko kar ke mahatab supurd
aks paa kar bahal gaye shayad

ek thahraav aa gaya kaisa
jawiye hi badal gaye shayad

apni lou me tapa ke hum khud ko
mom ban kar pighal gaye shayad

kaanpti lou karar pane lagi
jhouke aa kar nikal gaye shayad

hum hawa se bacha rahe the jinhe
un charago se jal gaye shayad

ab ke barsaat me bhi dil khush hai
hijra ke khouf tal gaye shayad

saaf hone lage sabhi manzar
ashq aankho se dhal gaye shayad

barish-e-sang jaise barish-e-gul
sare patthar pighal gaye shayad

wo 'Aleena' badal gaya tha bahut

isliye ham sambhal gaye shayad - Aleena Itrat

Post a Comment

 
Top