0
माँ के रहने पर ही पत्थर पर असर होता है
झोपडी हो या क़िला तब कही घर होता है

तर बतर कोई दुआओं से अगर होता है
हर किसी के लिए वो शख्स शज़र होता है

तब्सिरा फूल नहीं करता कभी खुशबू का
इश्क एलान नहीं करता अगर होता है

गुल खिला होता तो फिर वाह निकलना तय थी
वाह तो मिलती ही है शेर अलग होता है

आसरा भी मिला और फल भी मिले खाने को
लगता है पेड़ो में देवो का बसर होता है - आतिश इंदौरी

Roman
maa ke rahne par hi patthar par asar hota hai
jhopdi ho ya kila tab kahi ghar hota hai

tar batar koi duaao se agar hota hai
har kisi ke liye wo shakhs shazar hota hai

tabsira phool nahi karta kabhi khushboo ka
ishq elan nahi karta agar hota hai

gul khila hota to phir wah niklana tha thi
waah to milti hi hai sher alag hota hai

aasra bhi mila aur fal bhi mile khane ko
lagta hai pedo me devo ka basar hota hai - Atish Indoree/ Atish Indori

Post a Comment

 
Top