0
उसकी खुशबू मेरी गज़लों में सिमट आई है
नाम का नाम है रुसवाई की रुसवाई है

दिल है एक और दो आलम का तमन्नाई है
दोस्त का दोस्त है हरजाई का हरजाई है

हिज्र की रात है और उनके तसव्वुर का चराग
बज़्म की बज़्म है तन्हाई की तन्हाई है

कौन से नाम से ताबीर करू इस रूत को
फूल मुरझाये है जख्मो पे बहार आई है

कैसी तरतीब से कागज़ पे गिरे है आँसू
एक भूली हुई तस्वीर उभर आई है

उसकी खुशबू मेरी गज़लों में सिमट आई है
नाम का नाम है रुसवाई की रुसवाई है - इकबाल अशहर

Roman

Uski khushboo meri ghazalo me simat aai hai
naam ka naam hai ruswai ki ruswai hai

dil hai ek aur do aalam ka tamnnai hai
dost ka dost hai aur harjai ka harjai hai

hizr ki raat hai aur unke taswwur ka charag
bazm ki bazm hai tanhai ki tanhai hai

koun se naam se tabeer karu is root ko
phool murjhaye hai zakhmo pe bahar aai hai

kaisi tarteeb se kagaz pe gire hai aansu
ek bhuli hui tasweer ubhar aai hai

uski khushboo meri ghazalo me simat aai hai
naam ka naam hai ruswai ki ruswai hai - Iqbal Ashar / Iqbal Ashhar
iqbal ashhar shayari, iqbal ashar shayari, iqbal ashar poetry, iqbal ashar shayari in hindi, इकबाल अशहर शायरी

Post a Comment Blogger

 
Top