0
हिज्र की शब का सहारा भी नहीं
अब फलक पर कोई तारा भी नहीं

बस तेरी याद ही काफी है मुझे
और कुछ दिल को गवारा भी नहीं

जिसको देखूँ तो मैं देखा ही करूँ
ऐसा अब कोई नजारा भी नहीं

डूबने वाला अजब था कि मुझे
डूबते वक्त पुकारा भी नहीं

कश्ती ए इश्क वहाँ है मेरी
दूर तक कोई किनारा भी नहीं

दो घड़ी उसने मेरे पास आकर
बारे गम सर से उतारा भी नहीं

कुछ तो है बात कि उसने साबिर
आज जुल्फों को सँवारा भी नहीं।- साबिर इंदोरी

Roman
hijr ki shab ka sahara bhi nahi
ab falak par koi taara bhi nahi

bas teri yaad hi kaafi hai mujhe
aur kuch dil ko gawara bhi nahi

jisko dekhu to mai dekha hi karu
aisa ab koi najara bhi nahi

dubne wala ajab tha ki mujhe
dubte wakt pukara bhi nahi

kashti e ishq wahaa hai meri
door tak koi kinara bhi nahi

do ghadi usne mere paas aakar
baare gam sar se utaara bhi nahi

kuch to hai baat ki usne sabir
aaj julfo ko sawara bhi nahi- Sabir Indoree

Post a Comment Blogger

 
Top