0
उसने बिगड के मुझसे कहा बात-बात में
रोते नहीं यु अहले वफ़ा बात बात में

कुछ बात थी जो उसकी जुबां कह न सकी
कुछ सोच-सोच कर वो रुका बात-बात में

उसकी भी चश्म नम हुई दौराने-गुफ्तगू
याद आ गया मुझे भी खुदा बात बात में

इतना ख्याल है कि मेरे सर पे धुप थी
जाने कब आफ़ताब ढला बात बात में

न मंज़र न घर न राह न मंजिल न राहते
सब कुछ किसी ने छीन लिया बात बात में - परवेज वारिस

मायने
अहले-वफ़ा=आशिक़, चश्म=आँख, दौराने-गुफ्तगू=बातचीत के बीच, आफताब=सूरज,

Roman

Usne bigad ke kaha baat baat me
rote nahi yu ahle wafa baat baat me

kuch baat thi jo uski jubaan kah n saki
kuch soch-soch kar wo ruka baat baat me

uski bhi Chashm nam hui dourane-guftgu
yaad aa gaya mujhe bhi khuda baat baat me

itna khyal hai ki mere sar pe dhoop thi
jaane kab aaftab dhala baat baat me

n manzar n ghar, n rah, na manjil, n rahte
sab kuch kisi ne cheen liya baat baat me- Parvez Waris
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top