3
कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता
कभी ज़मी तो कभी आसमा नही मिलता

जिसे भी देखिये वो अपने आप में गुम है
जुबा मिली है मगर हमजुबां नहीं मिलता

बुझा चुका है भला कौन वक़्त के शोले
ये ऐसी आग है जिस में धुआं नहीं मिलता

तेरे जहाँ में ऐसा नहीं की प्यार न हो
जहा उम्मीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता - निदा फाजली

Roman

kabhi kisi ko mukmmal jaha nahi milta
kabhi zami to kabhi aasma nahi milta

jise bhi dekhiye wo apne aap me gum hai
juban mili hai magar hamjuban nahi miltta

bujha chuka hai bhala koun waqt ke shole
ye kaisi aag hai jis me dhuaan nahi mailta

tere jahaan me aisa nahi ki pyaar n ho
jahaa ummid ho iski wahaa nahi milta - Nida Fazli

Post a Comment Blogger

  1. meri pasandeeda gazal hai,
    aapka dhnyvad

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. mera lkhayal hai yeh Nida Fazli sahib ki ghazal hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. परवेज साहब आपने जो कहा वो बिलकुल ठीक है इस गलती को ठीक कर दिया है आपका ध्यान आकर्षित करने हेतु धन्यवाद

      Delete

 
Top