0
हजारो लफ्ज़, हजारो किताब दे देंगे
में तुझको लिखू तो कागज जवाब दे देंगे

न मिसाल खुदा की, न कोई तेरी मिसाल
न शायरी, न दलीले, न फलसफा, न ख्याल

खुदा का जिक्र भी और तेरी गुफ्तगू भी अजीम
मेरे लिए तो खुदा भी अजीम, तू भी अजीम

न लफ्ज़ तुझसे बड़े है, न सोच तुझसे बड़ी
में तेरे वास्ते कुछ भी तो नहीं लिख सकता - राहत इन्दोरी

Roman

hajaro lafz, hajaro kitab de denge
mai tujhko likhu to kagaz jawab de denge

n misal khuda ki, n koi teri misal
n shayari, n dalile, n falsafa, n khayal

khuda ka jikr bhi aur teri guftgu bhi azeem
mere liye to khuda bhi, tu bhi azeem

n lafaz tujhse bade hai, n soch tujhse badi
mai tere waste luch bhi to nahi likh sakta - Rahat Indori

Post a Comment Blogger

 
Top