0
उसको पाने का जतन भी देखिए
और खोने की चुभन भी देखिए

गोरा मुखड़ा है लटों में छुप गया
रात से दिन का मिलन भी देखिए

ज़िन्दगी भर ख़्वाहिशों के पीछे ही
भागता मन का हिरन भी देखिए

ऊँचे महलों की अगर तामीर की
दिन ब दिन बढ़ती घुटन भी देखिए

सच कहूँ मैं और अच्छा भी लगे
शे'र कहने का ये फ़न भी देखिए - बलजीत सिंह बेनाम

Roman

usko paane ka jatan bhi dekhiye
aur khone ki chubhan bhi dekhiye

gora mukhda hai lato me chhup gaya
raat se din ka milan bhi dekhiye

zindagi bhar khwahisho ke peeche hi
bhagta man ka hiran bhi dekhiye

unche mahlo ki agar tameer ki
din-b-din badhti ghutan bhi dekhiye

sach kahun mai aur accha bhi lage
sher kahne ka ye fan bhi dekhiye - Baljeet Singh Benaam

बलजीत सिंह बेनाम

सम्प्रति:संगीत अध्यापक, उपलब्धियाँ:विविध मुशायरों व सभा संगोष्ठियों में काव्य पाठ, विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित, विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित, आकाशवाणी हिसार और रोहतक से काव्य पाठ
सम्पर्क सूत्र:103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी:125033
मोबाईल:9996266210
Mail : baljeets312@gmail.com
loading...

Post a Comment

 
Top