0

लाजिम कहाँ कि सारा जहाँ खुश लिबास हो
मैला बदन पहन के न इतना उदास हो

इतना न पास आ कि तुझे ढूंढते फिरें,
इतना न दूर जा कि हम:वक्त पास हो

इक जू-ए-बे-क़रार हो क्यों दिल-कशी तिरी,
क्यों इतनी तश्नालब मिरी आँखों की प्यास हो

पहना दे चांदनी को क़बा अपने जिस्म की
उस का बदन भी तेरी तरह बे लिबास हो

रंगों की कत्लगाह में कभी तू भी आ के देख
शायद कि रंगे-ज़ख्म कोई तुझ को रास हो

मै भी हवाए-सुबह की सूरत फिरूं सदा
शामिल गुलो कि वास में गर तेरी बास हों

आये वो दिन कि किश्ते-फ़लक हो हरी भरी
बंज़र ज़मीं पे मीलो तलक सब्ज़ घास हो - वजीर आगा
मायने
लिबास = अच्छे वस्त्रों वाला, हम:वक्त = हर समय, जू-ए-बे-क़रार = व्याकुल, तश्नालब = प्यासी, क़बा =चोगा, कत्लगाह = वधस्थल, किश्ते-फ़लक = आकाश के खेती

Roman

lazim kahaN ki sara jahan khush libas ho
maila badan pahan ke n itna udaas ho

itna n paas aa ki tujhe dhundhte phire
itna n door jaa ki hum:waqt paas ho

ik zu-e-be-qarar ho kyo dil-kashi tiri
kyo itni tashnalab miri aankho ki pyas ho

pahna de chandani ko qabaa apne zism ki
us ka badan bhi teri tarah be-libas ho

rago ki qatlgaah me kabhi tu bhi aa ke dekh
shayad ki range-zakhm koi tujhko raas ho

mai bhi hawae-subah ki surat firun sada
shamil gulo ki waas me gass teri baas hoN

aaye wo din ki qishte-falaq ho hari bhari
banzar zameeN pe milo talak sabz ghaas ho - Wazeer Aagha
loading...

Post a Comment

 
Top