0

yakum january hai naya saal hai  december men puchhunga kya haal hai

यकुम जनवरी है नया साल है
दिसम्बर में पूछूँगा क्या हाल है

बचाए ख़ुदा शर की ज़द से उसे
बेचारा बहुत नेक-आमाल है

बताने लगा रात बूढ़ा फ़क़ीर
ये दुनिया हमेशा से कंगाल है

है दरिया में कच्चा घड़ा सोहनी
किनारे पे गुम-सुम महिवाल है

मैं रहता हूँ हर शाम शिकवा-ब-लब
मिरे पास दीवान-ए-'इक़बाल' है - अमीर कज़लबाश
मायने
यकुम = पहली तारिख, शर = बुराई, ज़द = मार, नेक-आमाल = अच्छा काम, शिकवा-ब-लब = लबो पर शिकायत, दीवान-ए-'इक़बाल' = इकबाल का दीवान

Roman
yakum january hai naya saal hai
december men puchhunga kya haal hai

bacha.e ḳhuda shar ki zad se use
bechara bahut nek-amal hai

batane laga raat budha faqir
ye duniya hamesha se kangal hai

hai dariya men kachcha ghada sohni
kinare pe gum-sum mahival hai

main rahta huun har shaam shikva-ba-lab
mire paas divan-e-'iqbal' hai - Ameer Qazalbash / Amir Qazalbash
loading...

Post a Comment

 
Top