0


कटवा रहे है वो आजकल वो उस जुबान को - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

कटवा रहे है आजकल वो उस जुबान को
कहने जो लग गयी है अपनी दास्तान को

है दूर काफी इस शहर में मन के मोहल्ले
फिर भी सुरंगे जोड़ती है हर मकान को

धुए से ढक रहे है सर सीमेंट के जंगल
अब खोज कर लाए कहा से आसमान को

है हर नज़र अंधी, जुबां गूंगी है जो यारो
कुछ भी सुनाई अब नहीं देता है कान को

खेतों को डस गयी थी कल बारूद की नागिन
अब तक न चल सका पता अनपढ़ किसान को

है मर चूका सब कुछ मगर जिंदा खड़ी है लाश
जैसे चूका रही है वो बाकी लगान को - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Roman

katwa rahe hai aajkal jo us jubaan ko
kahne jo lag gai hai apni daastaan ko

hai door kafi is shahar me man ke mohlle
phir bhi surange jodti hai har makaan ko

dhue se dhak rahe hai sar cement ke jungle
ab khoj kar laye kaha se aasmaan ko

hai har nazar andhi, zubaaN gungi hai jo yaaro
kuch bhi sunaai ab nahi deta hai kaan ko

kheto ko das gayi thi kal barood ki nagin
ab tak n chal raka pata anpadh kisaan ko

hai mar chuka sab kuch magar zinda khadi hai laash
jaise chuka rahi hai wo baaki lagaan ko - Surendra Chaturvedi

आपके ब्लॉग की लिंक है  (https://ghazalsurendra.blogspot.com/)
loading...

Post a Comment

 
Top