0
रचनाकार
एक करतब दूसरे करतब से भारी देखकर
मुल्क भी हैरान है ऐसा मदारी देखकर,

जिनके चेहरे साफ दिखते हैं मगर दामन नहीं
शक उन्हें भी है तेरी ईमानदारी देखकर,

उम्रभर जो भी कमाया मिल गया सब खाक में
चढ गया फांसी के फंदे पर उधारी देखकर,

मुल्क के हालात कैसे हैं पता चल जाएगा
देखकर कश्मीर या कन्याकुमारी देखकर,

सर्द मौसम में यहां तो धूप भी बिकने लगी
हो रही हैरत तेरी दूकानदारी देखकर,

इस तरह के नोट चूरन में निकलते थे कभी
सब यही कहते दिखे कल दो हजारी देखकर,

देखने सूरत गया था आइने के सामने
आईना रोने लगा हालत हमारी देखकर।। -अतुल कन्नौजवी

Roman

ek kartab dusre kartab se bhari dekhkar
mulk bhi hairan hai aisa madaari dekhkar,

jinke chehre saaf dikhte hai magar daman nahi
shaq unhe bhi hai teri imandari dekhkar,

umrabhar jo bhi kamaya mil gaya sab khaak me
chadh gaya faansi ke fande par udhari dekhkar,

mulq ke halat kaise hai pata chal jayega
dekhkar kashmir ya kanyakumari dekhkar,

sard mousam me yah to choop bhi bikne lagi
ho rahi hairat teri dukandari dekhkar,

is tarah ke note churan me niklate the kabhi
sab yahi kahte dikhe kal do hajari dekhkar,

dekhne surat gaya tha aaine ke samne
aaina rone laga halat hamari dekhkar - Atul Kannaujvi
.

Post a Comment

 
Top