1
धूप के साथ गया, साथ निभाने वाला
अब कहां आएगा वो, लौट के आने वाला।

रेत पर छोड़ गया, नक्श हजारों अपने
किसी पागल की तरह, नक्श मिटाने वाला।

सब्ज शाखें कभी ऐसे नहीं चीखती हैं,
कौन आया है, परिंदों को डराने वाला।

शबनमी घास, घने फूल, लरजती किरणें
कौन आया है, खजानों को लुटाने वाला।

अब तो आराम करें, सोचती आंखें मेरी
रात का आखिरी तारा भी है जाने वाला। - वजीर आगा

Roman

Dhoop ke saath gayaa, saath nibhaane wala
ab kahaan aayega woh, laut ke aane wala.

Ret par chhod gayaa, naksh hajaaron apane
kisee paagal kee tarah, naksh mitaane wala.

Sabj shaakhen kabhee aise nahi chikhati hain,
kaun aayaa hai, parindon ko daaraane wala.

Shabanamee ghaas, ghane fool, larajatee kiranaen
kaun aayaa hai, khazano ko lutaane wala.

Ab to aaraam karen, sochati aankhen meri
raat kaa aakhiri tara bhi hai jaane wala. - Wazeer Aagha
loading...

Post a Comment

  1. वाह गज़ब के भाव समाये हैं।

    ReplyDelete

 
Top