1
न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

हुआ जब ग़म से यूँ बे-हिस तो ग़म क्या सर के कटने का
न होता गर जुदा तन से तो ज़ानू पर धरा होता

हुई मुद्दत कि 'ग़ालिब' मर गया पर याद आता है
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता - मिर्ज़ा ग़ालिब

मायने
बेहिस = हैरान, ज़ानू = घुटने

Roman
N tha kuch to khuda tha, kuch n hota to khuda hota
Duboya mujhko hone ne, n mai hota to kya hota

Hua jab gam se yu behis to gam kya sar ke katne ka
N hota gar juda tan se to janu par dhara hota

Hui muddat ki 'Ghalib' mar gaya par yaad aata hai
Wo har ek baat par kahna ki yu hota to kya hota - Mirza Ghalib

Post a Comment

 
Top