0

आह को चाहिए एक उम्र असर होंने तक |
कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होने तक ||

दामे हर मौज में है, हल्का-ए-सदकामे-नहंग |
देखे क्या गुजरे है, कतरे पे गुहर होने तक ||

आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब |
दिल का क्या रंग करू खूने- जिगर होने तक ||

हमने माना की तगाफुल न करोगे लेकिन |
खाक हो जाएँगे हम तुमको खबर होने तक ||

ग़म-ए-हस्ती का 'असद' किसको हो जुज़ मर्ग इलाज |
समअ हर रंग में जलती है सहर होने तक || - मिर्ज़ा ग़ालिब
मायने

सर होने तक = सुलझने तक, गुहर = विपत्तिया,हल्का-ए-सदकामे-नहंग=हर लहर एक जाल है और उस जाल के फंदे बहुत से मगरो की तरह मुह खोले हुए है, खूने-जिगर= मृत्यु तक, तंगाफुल=उपेक्षा, जुज़ मर्ग=मृत्यु के अतिरिक्त, सहर=सुबह


Roman

Aah ko chahiyeek umra asar hone tak
koun jeeta hai teri julf ke sar hone tak

daame har mouj me hai, halka-e-sadkame-nahang
dekhe kya gujre hai, katre pe guhar hone tak

aashiqi sabra talab aur tamnna baitab
dil ka kya rang karu khune-jigar hone tak

hamne mana ki tagaful n karoge laikin
khak ho jaaenge tunko khabar hone tak

gam-e-hasti ka 'ASAD' kisko ho zuz marg ilaz
sama har rang me jalti hai sahar hone tak- Mirza Ghalib

Mayne
sar hone tak = suljhane tak, guhar=vipttiya, halka-e-sadkame-nahang=har lahar ek jaal hai aur us jaal ke fande bahut se magro ki tarah muh khole hue hai, khune-jigar=mrityu tak, tagaful=upeksha, zuz marg=mrityu ke atirikt, sahar=subah
loading...

Post a Comment

 
Top