1
शेर हैं चलते हैं दर्राते हुए
बादलों की तरह मंडलाते हुए
ज़िंदगी की रागिनी गाते हुए
आज झंडा है हमारे हाथ में


हाँ यह सच है भूक से हैरान हैं
पर यह मत समझो कि हम बेजान हैं
इस बुरी हालत में भी तूफ़ान हैं
आज झंडा है हमारे हाथ में

हम वह हैं जो बेरुख़ी करते नहीं
हम वह हैं जो मौत से डरते नहीं
हम हैं वह जो मर के भी मरते नहीं
आज झंडा है हमारे हाथ में

चैन से महलों में हम रहते नहीं
ऐश की गंगा में हम बहते नहीं
भेद दुश्मन से कभी कहते नहीं
आज झंडा है हमारे हाथ में

जानते है एक लश्कर आएगा
तोप दिखाकर हमें धमकाएगा
पर यह झंडा भी यूँ ही लहराएगा
आज झंडा है हमारे हाथ में

कब भला धमकी से घबराते हैं हम
दिल में जो होता है कह जाते हैं हम
आसमान हिलता हैं जब गाते हैं हम
आज झंडा है हमारे हाथ में

लाख़ लश्कर आए कब हिलते हैं हम
आँधियों में जंग की खिलते है हम
मौत से हंस कर गले मिलते हैं हम
आज झंडा है हमारे हाथ में - मजाज़ लखनवी

Roman

sher hai chalte hai darrate hue
badlo ki tarah mandlate hue
zindgi ki ragini gate hue
aaj jhanda hai hamare haath me

haan yah sach hai bhukh se hairan hai
par yah mat samjho ki ham bejan hai
is buri hakat me bhi tufan hai
aaj jhanda hai hamare hath me

ham wah ahi jo berukhi karte nahi
ham wah hai jo mout se darte nahi
ham hai wah jo mar ke bhi marte nahi
aaj jhanda hai hamare hath me

chain se mahlo me ha rahte nahi
aish ki ganga me ham bahte nahi
bhed dushman se kabhi kahte nahi
aaj jhanda hai hamare hath me

jante hai ek lashkar aayega
top dikhakar hame dhamkaega
par yah jhanda bhi yun hi lahrayega
aaj jhanda hai hamare hath me

kab bhala dhamki se ghabrate hai ham
dil me jo hota hai kah jate hai ham
aasmaan hilta hai jab gate hai ham
aaj jhanda hai hamare hath me

laakh lashkar aaye kab hilte hai ham
aandhiyo me jung ki khilte hai ham
mout se has kar gale milte hai ham
aaj jhanda hai hamare hath me - Majaz Lakhnavi
#jakhira, independence day poetry, aazadi shayari, jashn-e-azadi shayari, swatantrata shayri, aazadi hindi shayari, aazadi poetry, mazaz lakhanavi shayati majaz shayari

Post a Comment

  1. बहुत ही बेहतरीन article लिखा है आपने। Share करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। :) :)

    ReplyDelete

 
Top