0
ना जाने क्यूं लड़कियों के अपने घर नहीं होते
जो उड़ना चाहें अंबर पे, तो अपने पर नहीं होते

आंसू दौलत, डाक बैरंग, बंजारन-सी जिंदगानी
सिवा गम के लड़कियों के जमीनो-जर नहीं होते

ख्वाब देखे कोई वो, उनपे रस्मों के लाचा पहरे
लड़कियों के ख्वाब सच पूरे, उम्रभर नहीं होते

हौंसलों के ना जेवर हैं, हिफाजत के नहीं रिश्ते
शानो-शौकत होती अपनी, झुके से सर नहीं होते

बड़ी नाजुक मिजाजी है, बड़ा मासूम दिल इनका
जो थोड़ी खुदगरज होतीं, किसी के डर नहीं होते

कभी का मिलता हक इनको सियासत के चमन में भी
सियासत की तिजारत के जो लीडर सर नहीं होते

लड़कियों की धड़कनों पे निगाहें मां की भी कातिल
कोख में मारी न जातीं जो मां के चश्मेतर होते - शकुंतला सरुपरिया

Roman

n jane kyu ladkiyo ke apne ghar nahi hote
jo udna che ambar pe, to apne ghar nahi hote

aansu doulat, dak berang, banjaran si zindgani
siwa gham ke ladkiyo ke zamino-zar nahi hote

khawab dekhe koi wo, unpe rasmo ke lacha pahre
ladkiyo ke khwab sach pure, umra bhar nahi hote

houslo ke na zewar hai, hifazat ke nahi rishte
shano- shoukat hoti apni, jhuke se sar nahi hote

badi najuk mizazi hai, bada masum dil inka
jo thodi khudgaraj hoti, kisi ke dar nahi hote

kabhi ka milta haq inko siyasat ke chaman me bhi
siyasat ki tijarat ke jo leader sar nahi hote

ladkiyo ki dhadkano pe nigahe maa ki bhi katil
kokh me mari n jati to maa ke chashmear hote - Shakuntala Sarupariya

Post a Comment Blogger

 
Top