0
bachcho par shayari
सफ़र से लौट जाना चाहता है
परिन्दा आशियाना चाहता है

कोई स्कूल की घंटी बजा दे
ये बच्चा मुस्कुराना 😊 चाहता है

उसे रिश्ते थमा देती है दुनिया
जो दो पैसे कमाना चाहता है

यहाँ साँसों के लाले पड़ रहे हैं
वो पागल ज़हर खाना चाहता है

हमारा हक़ दबा रक्खा है जिसने
सुना है हज को जाना चाहता है - शकील जमाली

Roman

safar se laut jana chahta hai
parinda ashiyana chahta hai

koi school ki ghanti baja de
ye bachcha muskurana chahta hai

use rishte thama deti hai duniya
jo do paise kamana chahta hai

yaha saso ke lale pad rahe hai
wo pagal zahar khana chahta hai

hamara haq daba rakkha hai jisne
suna hai hajj ko jana chahta hai - Shakeel Jamali

Post a Comment Blogger

 
Top