0
वो जो मुह फेर कर गुजर जाए
हश्र का भी नशा उतर जाए

अब तो ले ले जिन्दगी यारब
क्यों ये तोहमत भी अपने सर जाए

आज उठी इस तरह निगाहें करम
जैसे शबनम से फूल भर जाए

अजनबी रात अजनबी दुनिया
तेरा मजरूह अब किधर जाये- मजरूह सुल्तानपुरी

Roman


wo jo muh fer kar gujar jaye
hashr ka bhi nasha utar haye

ab to le le zindgi yaarab
kyo ye tohmat bho apne sir jaye

aaj uthi is tarah nigahe karam
jaise shabnam se phool bhar jaye

ajnabi raat ajnabi duniya
tera majrooh ab kidhar jaye - Majrooh Sultanpuri
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top