0
राम बनवास से जब लौट के घर में आये
याद जंगल बहुत आया जो नगर में आये

रक्से दीवानगी आंगन में जो देखा होगा
छह दिसंबर को श्री राम ने सोचा होगा

इतने दीवाने कहां से मेरे घर में आये?
जगमगाते थे जहां राम के क़दमों के निशां

प्यार की कहकशां लेती थी अंगड़ाई जहां
मोड़ नफरत के उसी राहगुज़र में आये

धरम क्या उनका है, क्या जात है, यह जानता कौन?
घर न जलता तो उन्हें रात में पहचानता कौन

घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये
शाकाहारी है मेरे दोस्त, तुम्हारा खंजर

तुमने बाबर की तरफ फेंके थे सारे पत्थर
है मेरे सर की खता ज़ख्म जो सर में आये

पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे
के नज़र आये वहां खून के गहरे धब्बे

पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे
राम यह कहते हुए अपने द्वारे से उठे

राजधानी की फ़िज़ा आयी नहीं रास मुझे
छह दिसंबर को मिला दूसरा बनवास मुझे। - कैफ़ी आज़मी

Roman

Ram banbas se jab lout ke ghar me aaye
yaad jangal bahut aaya jo nagar me aaye

rakse dewanagi aangan me jo dekha hoga
chah dismbar ko shri ram ne socha hoga

itne diwane kahan se mere ghar me aaye?
jagmagate the jaha raam ke kadmo ke nishaan

pyar ki kahkasha leti thi angdai jaha
mod nafrat ke usi rahgujar me aaye

dharam kya unka hai, kya jaat hai, yah janta koun?
ghar n jalta to unhe raat me pahchanta koun?

ghar jalane ko mera, log jo ghar me aaye
shakahari hai mere dost, tumhara khanzar

tumne babar ki taraf feke the sare patthar
hai mere sar ki khata jakhm jo sar me aaye

paanv saryu me abhi raam ne dhoye bhi n the
ke najar aaye waha khun ke gahre dhabbe

paanv dhoye bina saryu ke kinare se uthe
ram yah kahte hue apne dware se uthe

rajdhani ki fizan aayi nahi ras mujhe
chah dismbar ko mila dusra banbas mujhe- Kaifi Aazmi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top